जागरण संवाददाता, देहरादून। Dehradun Crime News: गबन के आरोपित को उत्तराखंड पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने मेरठ (उत्तर प्रदेश) से गिरफ्तार किया है। उस पर पांच हजार रुपये के इनाम भी घोषित था। आरोपित आठ साल से फरार चल रहा था। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि राजकुमार निवासी बागपत (उत्तर प्रदेश) ने वर्ष 2013 में अपने साथियों के साथ मिलकर जिला हरिद्वार के शाकुंभरी इंस्टीट्यूट आफ हायर एजुकेशन के नाम से फर्जी रसीद बनाकर छात्रों से फीस लेकर लाखों रुपये का गबन किया था। इस मामले में 2013 में हरिद्वार के भगवानपुर थाना में आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

हरिद्वार पुलिस आरोपित की तलाश में लगातार दबिश देती रही, लेकिन उसका कहीं पता नहीं लगा। लंबे समय से वांछित होने के चलते डीआइजी गढ़वाल रेंज ने आरोपित की गिरफ्तारी पर पांच हजार रुपये का इनाम घोषित किया था। सोमवार को पुलिस को सूचना मिली कि राजकुमार शताब्दी नगर परतापुर मेरठ (उत्तर प्रदेश) आया हुआ है। इस पर पुलिस की एक टीम भेजी गई, जिसने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। एसएसपी ने बताया कि आरोपित के खिलाफ अन्य राज्यों में दर्ज मुकदमों के संबंध में जानकारी हासिल की जा रही है।

135 ग्राम चरस के साथ एक गिरफ्तार

एंटी ड्रग टास्क फोर्स (एडीटीएफ) व नेहरू कालोनी थाना पुलिस ने 135 ग्राम चरस के साथ एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। नेहरू कालोनी के इंस्पेक्टर राकेश गुसांई ने बताया कि क्षेत्र में चरस तस्करी की सूचना मिली थी। सूचना पर एटीडीएफ व नेहरू कालोनी थाना पुलिस की संयुक्त टीम ने कार्रवाई करते हुए आरोपित सचिन निवासी ग्राम माटी मरेला चकराता को नेहरू कालोनी से रविवार को गिरफ्तार किया गया। आरोपित के खिलाफ 2020 में भी मुकदमा दर्ज किया गया था।

यह भी पढ़ें:- रुड़की: कलियर में दबंगों ने एक मजदूर को बेरहमी से पीटा, वीडियो वायरल

Edited By: Sunil Negi