राज्य ब्यूरो, देहरादून। Uttarakhand Election 2022 उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए तिथियों का एलान हो चुका है। राजनीति दलों ने किलेबंदी शुरू कर दी है तो चुनाव को पारदर्शी, निर्बाध व निर्विघ्न तरीके से कराने के लिए मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय ने भी तैयारियां को अंतिम रूप दे दिया है। प्रदेश में मतदाता सूची को अंतिम रूप दिया जा चुका है और मतदान केंद्रों की संख्या भी तय कर दी गई है। प्रयास यह किया गया है कि किसी भी मतदाता को दो किमी से अधिक की पैदल दूरी तय न करनी पड़े। हर मतदेय स्थल पर रैंप, पेयजल की सुविधा, पर्याप्त फर्नीचर, विद्युत, हेल्प डेस्क, उचित संकेतांक, शौचालय तथा वर्षा व धूप से बचाव के लिए शेड की व्यवस्था की जा रही है।

चुनाव के लिए 16 हजार से अधिक नई ईवीएम मंगाई गई हैं। इनके लिए कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने की शुरुआत भी हो गई है। केवल महिलाओं के लिए माडल बूथ बनाने की तैयारी चल रही हैं। इन बूथों पर निर्वाचन अधिकारी और सहायक निर्वाचन अधिकारी महिलाएं ही रहेंगी। इसके साथ ही आयोग इस बार 60 प्रतिशत मतदान केंद्रों से वेबकास्टिंग करेगा। इसके लिए यहां सीसी कैमरे लगाए जाएंगे, ताकि यहां होने वाले मतदान की पल-पल की जानकारी आयोग के पास रहे। इसके साथ ही आयोग द्वारा सुदूरवर्ती बूथों पर संपर्क साधने के लिए सेटेलाइट फोन भी मंगाए जा रहे हैं। चुनाव के दौरान सुरक्षा व शांति व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है।

प्रदेश में 827913 मतदाता करेंगे नई सरकार का चुनाव

विधानसभा चुनाव के लिए मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय ने मतदाता सूची को अंतिम रूप दे दिया है। पांच जनवरी को आयोग द्वारा प्रकाशित सूची के अनुसार प्रदेश में कुल 82,37,913 मतदाता हैं। इनमें 93964 सर्विस मतदाता भी शामिल हैं। कुल मतदाताओं में 43,15,684 पुरुष और 39,21,902 महिला मतदाता शामिल हैं। वहीं, 300 अन्य मतदाता शामिल हैं।

1.58 लाख नए मतदाता पहली बार करेंगे मतदान

आगामी विधानसभा चुनाव में 18 से 19 वर्ष के 158008 नए मतदाता बनाए गए हैं। ये मतदाता पहली बार चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। इनमें 88394 पुरुष और 69614 महिला मतदाता शामिल हैं। इन नए मतदाताओं में सबसे अधिक मतदाता देहरादून, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर के हैं। देहरादून में इनकी संख्या 10318, ऊधमसिंह नगर में 10870 और हरिद्वार में 9063 है।

चुनाव के लिए बनाए गए हैं 11647 मतदान केंद्र

मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय ने प्रदेश में इस बार 11647 मतदान केंद्र बनाए हैं। पहले यह संख्या 11024 थी। आयोग ने इस बार यह निर्णय लिया है कि किसी मतदाताओं को इस बार अधिकतम दो किमी से अधिक की दूरी न तय करनी पड़ी। इसके लिए आयोग ने 135 नए मतदेय स्थल बनाए हैं। इसके अलावा कोरोना के दृष्टिगत एक मतदेय स्थल में मतदाताओं की अधिकतम संख्या 1200 तय की गई है। इससे अधिक संख्या के बूथों के मतदाताओं के लिए अलग नए 500 बूथ बनाए गए हैं।

80 वर्ष से अधिक आयु व दिव्यांग मतदाताओं को घर बैठे मतदान की सुविधा

आयोग ने इस बार कोरोना के दृष्टिगत कई कदम उठाए हैं। इनमें 80 वर्ष से अधिक आयु, दिव्यांग व कोरोना संक्रमित मतदाताओं को घर बैठे वोट देने की सुविधा दी गई है। प्रदेश में 80 वर्ष से अधिक आयु के 158742 और 68478 दिव्यांग मतदाता हैं। इस सुविधा का लाभ लेने के लिए इन मतदाताओं को फार्म 12-घ भरना पड़ेगा। इसके लिए संबंधित क्षेत्र के बूथ लेवल अधिकारी ऐसे मतदाताओं की मांग पर उन्हें फार्म 12- घ उपलब्ध कराएंगे।

वोटर कार्ड ही वोट डालने को पर्याप्त नहीं

आयोग ने स्पष्ट किया है कि वोट डालने के लिए केवल वोटर कार्ड होना ही पर्याप्त नहीं है। इसके लिए संबंधित मतदाता का वोटर लिस्ट में भी नाम होना चाहिए। दरअसल, यह देखने में आया है कि कई मतदाताओं के पास वोटर कार्ड होता है, इस कारण वे वोटर लिस्ट में अपना नाम नहीं देखते हैं। कतिपय कारणों से कई बार नाम कट जाते हैं। इसकी जानकारी मतदाताओं को मतदान वाले दिन मतदान केंद्र पर पहुंचने पर मिलती है। ऐसे में आयोग ने स्पष्ट किया है कि अपना नाम वोटर लिस्ट में जांचने के लिए टोल फ्री नंबर 1905 पर काल की जा सकती है। इसके साथ ही बीएलओ से भी संपर्क कर मतदाता सूची देखी जा सकती है।

सी विजिल एप पर दर्ज की जा सकती हैं शिकायतें

आयोग ने चुनाव को निष्पक्ष व पारदर्शी बनाने के लिए सी विजिल एप भी लांच किया है। इस एप की खासियत है कि कि कहीं भी आचार संहिता का उल्लंघन होने की वीडियो डाली जा सकती है। यह एप आनलाइन है। ऐसे में आयोग की टीम एप में डाली गई वीडियो के लोकेशन तक पहुंचकर कार्रवाई भी कर सकती है। इसके अलाव इस एप के जरिये लिखित शिकायत भी दी जा सकती है।

जिलेवार मतदाताओं की संख्या

उत्तरकाशी - 235427

चमोली - 298715

रुद्रप्रयाग - 192724

टिहरी गढ़वाल - 529865

देहरादून- 1481874

हरिद्वार - 1417026

पौड़ी गढ़वाल - 577117

पिथौरागढ़ - 381581

बागेश्वर - 216765

अल्मोड़ा - 538826

चम्पावत -203151

नैनीताल - 712912

ऊधमसिंह नगर - 1299939

कुल - 81, 43,922 (इसके अलावा 93,964) सर्विस मतदाता भी हैं।

आयु वर्गवार मतदाताओं के आंकड़े

18-19 - 1,59,008

20-29 - 17,39,279

30-39 - 22,23,070

40-49 - 16,06,636

50-59 - 11,28,400

60-69 - 7,29,422

70-79 - 4,00,365

80 से अधिक - 1,58,742

कुल - 8143922

एमवी थ्री मशीनों का हो रहा इस्तेमाल

प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव नई एम-थ्री ईवीएम मशीनों से होंगे। इसके लिए राज्य निर्वाचन कार्यालय 18400 नई ईवीएम और वीवी पैट मशीनें मंगा चुका है। ये नई इवीएम मशीनें चलाने में आसान हैं, थोड़ा छोटी हैं और इन्हें अल्प समय में ही लगाया जा सकता है। इन मशीनों में छेड़छाड़ की संभावना बेहद कम है। इनमें छेड़छाड़ होते ही ये काम करना बंद कर देती हैं। इसकी एक और खासियत यह है कि एक ईवीएम में 24 बैलेट यूनिट जोड़ी जा सकती हैं। एक बैलेट यूनिट में 16 उम्मीदवार होते हैं। यानी किसी विधानसभा चुनाव क्षेत्र में 384 उम्मीदवार खड़े होते हैं तो भी इनका चुनाव ईवीएम के जरिये आसानी से हो पाएगा।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी सैजन्या ने बताया कि प्रदेश में चुनाव की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। अब चुनाव ड्यूटी में लगे कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इन्हें तीन चरणों में प्रशिक्षण दिया जाएगा। चुनाव को शांतिपूर्ण तरीके से कराने के लिए केंद्र से भी पुलिस बल मांगा गया है। सर्विलांस टीमें फील्ड में एक्टिव हो चुकी हैं। आयोग निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान कराने के लिए प्रतिबद्ध है।

यह भी पढ़ें- 

Edited By: Raksha Panthri