जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand Vidhan Sabha Chunav 2022 जो उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतर रहे हैं, उन्हें अपनी आपराधिक पृष्ठभूमि की जानकारी सार्वजनिक करनी होगी। नामांकन के दौरान शपथ पत्र में इसका जिक्र तो किया ही जाएगा, साथ ही विभिन्न सार्वजनिक माध्यम (प्रिंट, इलेक्ट्रानिक, इंटरनेट मीडिया आदि) से भी जनता को इस बारे में अवगत कराना होगा। यह निर्देश जिला निर्वाचन अधिकारी डा. आर राजेश कुमार ने विभिन्न राजनीतिक दलों व उम्मीदवारों की बैठक में दिए।

गुरुवार को कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के क्रम में निर्वाचन आयोग ने निर्धारित प्रारूप में जानकारी देने की व्यवस्था की है। बैठक में जिला निर्वाचन अधिकारी ने सभी प्रारूपों पर विस्तार से जानकारी दी।

बैठक में उप जिला निर्वाचन अधिकारी नितिका खंडेलवाल, अपर जिलाधिकारी प्रशासन डा. एसके बरनवाल, संयुक्त मजिस्ट्रेट आकांक्षा सिंह, पुलिस अधीक्षक क्राइम विशाखा, रवींद्र जुवांठा, अरविंद जैन, लालचंद शर्मा, दीपक रावत, अनन्त आकाश आदि उपस्थित रहे।

ऐसे सार्वजनिक करनी होगी जानकारी

प्रारूप सी-एक में उम्मीदवार को समाचार पत्र एवं टीवी, वेबसाइट पर जानकारी देनी होगी।

प्रारूप सी-दो में राजनीतिक दल अपने उम्मीदवारों के संबंध में विभिन्न मीडिया प्लेटफार्म पर जानकारी सार्वजनिक करेंगे।

प्रारूप सी-सात में राजनीतिक दल को विभिन्न माध्यमों के साथ पार्टी की वेबसाइट पर भी जानकारी दर्ज करनी होगी।

समाचार पत्रों में जानकारी सार्वजनिक करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर समाचार पत्र की प्रसार संख्या कम से कम 75 हजार व स्थानीय स्तर पर कम से कम 25 हजार होनी चाहिए।

स्पोर्ट्स कालेज से रवाना होंगी पोलिंग पार्टियां, मतगणना भी यहीं

महाराणा प्रताप स्पोट्र्स कालेज एक बार फिर चुनाव व्यवस्था के केंद्र में रहेगा। यहां से न सिर्फ पोलिंग पार्टियां रवाना होंगी, बल्कि ईवीएम का स्ट्रांग रूम भी यहीं बनेगा और मतगणना तक की व्यवस्था इसी परिसर में की जाएगी। गुरुवार को जिला निर्वाचन अधिकारी ने कालेज का दौरा कर विभिन्न कार्यों के लिए प्रस्तावित स्थल/कक्ष का जायजा लिया और दिशा-निर्देश जारी किए।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि ईवीएम रखने के लिए जिस कक्ष में स्ट्रांग रूम बनाया जा रहा है, वहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाएं। पोलिंग पार्टियों की रवानगी व वापसी के लिए भी प्लान तैयार किया जाए। जहां मतगणना की जानी है, उस स्थल पर बैरिकेडिंग आदि के इंतजाम किए जाएं। सभी तरह की व्यवस्था कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिहाज से की जाए। निरीक्षण में अपर जिलाधिकारी प्रशासन डा. एसके बरनवाल, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व केके मिश्रा, उपजिलाधिकारी डोईवाला युक्ता मिश्रा आदि शामिल रहीं।

यह भी पढ़ें- आखिर क्यों उत्तराखंड कांग्रेस में अभी दो दर्जन टिकट तय होने में लगेगा समय, महिला नेताओं की भी बढ़ीं उम्मीदें

Edited By: Raksha Panthri