जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand Coronavirus Update कोरोना की दूसरी लहर पहले से भी घातक साबित हो रही है। न केवल संक्रमितों की संख्या, बल्कि मौत का आंकड़ा भी अब इसकी भयावहता बयां कर रहा है। शनिवार को प्रदेश में कोरोना संक्रमित 37 मरीजों की मौत हुई। ये पूरे कोरोनाकाल में एक दिन में हुई सर्वाधिक मौत हैं। इससे पहले 30 सितंबर और 13 अक्टूबर को यह संख्या 20 रही थी। 

स्थिति की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अप्रैल में अब तक 139 मरीज कोरोना के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं। उत्तराखंड में कोरोना का पहला मामला 15 मार्च को सामने आया था, जबकि पहली मौत एक मई को हुई। इसके बाद मौत का ग्राफ निरंतर बढ़ता गया। कोरोना मृत्यु दर राज्य के लिए लगातार चिंता का सबब बनी रही है। उत्तराखंड उन राज्यों में शामिल रहा जहां मृत्यु दर राष्ट्रीय औसत से भी ज्यादा थी। 

यहां सर्वाधिक मौत अक्टूबर माह में हुईं। पिछले कुछ वक्त से जरूर सिस्टम सुकून में था, पर अब मौत का आंकड़ा फिर डराने लगा है। जिस तरह से कोरोना बेकाबू हुआ है, उसके बाद हालात बिगड़ते जा रहे हैं। इससे हेल्थ सिस्टम पर भी दबाव है। मरीजों की बढ़ती तादाद के बीच सीमित संसाधन बड़ी चुनौती हैं। बता दें कि प्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमित 1856 मरीजों की मौत हुई है, जबकि कोरोना मृत्यु दर 1.53 फीसद है।

कब कितनी मौत 

बीते साल 

15 से 31 मार्च: 00

अप्रैल:00 

मई:05

जून:36

जुलाई:39 

अगस्त: 189

सितंबर:342

अक्टूबर: 412

नवंबर:208

दिसंबर: 278

इस साल 

जनवरी : 135

फरवरी: 48

मार्च: 25

अप्रैल 17 तक: 139

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड में तेजी से बढ़ रहा कोरोना संक्रमण, जानिए कोरोना के मोर्चे पर क्‍या हैं चार बड़ी चुनौती

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप