जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand Coronavirus News Update उत्तराखंड में जांच बढ़ने के साथ ही कोरोना के मामले भी फिर बढ़ने लगे हैं। शनिवार को पांच जिलों में 81 लोग संक्रमित मिले हैं। सुकून इस बात का है कि सैंपल पॉजिटिविटी रेट सिर्फ 0.54 फीसद ही रहा है। इधर, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुनस्यारी में भर्ती कोरोना संक्रमित 29 वर्षीय युवती की मौत भी हुई है। अभी तक प्रदेश में कोरोना के 96949 मामले आए हैं, जिनमें 93442 स्वस्थ भी हो गए हैं। फिलहाल 421 एक्टिव केस हैं, जबकि 1394 मरीज राज्य से बाहर चले गए हैं। कोरोना संक्रमित 1692 मरीजों की अब तक मौत हो चुकी है। 

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, निजी व सरकारी लैब से कुल 15032 सैंपल की जांच रिपोर्ट मिली। जिनमें 14951 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है। देहरादून में सबसे ज्यादा 42 लोग संक्रमित मिले हैं। वहीं हरिद्वार में भी 29 लोग की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके अलावा टिहरी गढ़वाल में पांच, नैनीताल में चार और ऊधमसिंह नगर में भी एक मामला आया है। जबकि अल्मोड़ा, बागेश्वर, चमोली, चंपावत, पौड़ी गढ़वाल, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग व उत्तरकाशी में कोई नया मामला नहीं आया है। विभिन्न जनपदों में 29 मरीज स्वस्थ भी हुए हैं। इनमें नौ देहरादून, सात नैनीताल, दो टिहरी व एक-एक मरीज अल्मोड़ा, चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी से है। 

अब बुजुर्गों को लगाया जाएगा टीका

कोरोना से बचाव के लिए अब वैक्सीन लगवाने के लिए बुजुर्गों की बारी आ गई है। तीसरे चरण में 60 साल से अधिक आयु के लोग और 45 से 59 आयु के किसी बीमारी से ग्रसित व्यक्तियों को वैक्सीन दी जाएगी। प्रदेश में एक मार्च से कुछ बूथों पर ट्रायल के तौर पर तीसरा चरण शुरू किया जाएगा। चार मार्च को तीसरे चरण के लिए टीकाकरण का पूर्वाभ्यास किया जाएगा। इसके बाद सात मार्च से सभी चयनित बूथों पर वैक्सीन लगाई जाएगी।

केंद्र सरकार की ओर से तीसरे चरण के टीकाकरण के लिए वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये प्रशिक्षण दिया जा रहा है। 

तीसरे चरण में पात्र व्यक्तियों को टीका लगाने के लिए मौके पर पंजीकरण किया जाएगा। इसके लिए उन्हें ऐसी आइडी साथ में लानी होगी, जिसमें जन्म तिथि लिखी हो। स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश की कुल आबादी के आधार पर 60 साल से अधिक और 45 से 59 आयु वर्ग के व्यक्तियों की संख्या का अनुमानित आकलन किया है। इनकी संख्या 20 लाख से अधिक हो सकती है।  

मेडिकल बोर्ड से लेनी होगी रिपोर्ट

प्रदेश में कोविड वैक्सीन न लगवाने के लिए हेल्थ और फ्रंट लाइन वर्कर अब कोई बहाना नहीं बना पाएंगे। वैक्सीन न लगवाने के लिए मेडिकल बोर्ड से कारणों की रिपोर्ट लेनी होगी। बोर्ड बताएगा कि वैक्सीन लगवाई जा सकती है, या नहीं। कुंभ मेला ड्यूटी में तैनात सभी स्वास्थ्य व अन्य कर्मचारियों को शत प्रतिशत वैक्सीन लगाई जानी है, लेकिन कई कर्मचारी वैक्सीन लगवाने के लिए आनाकानी कर रहे हैं। 

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Coronavirus News Update: कोरोना को लेकर उत्‍तराखंड में राहत बरकरार, छह जिलों में 53 लोग मिले संक्रमित

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप