राज्य ब्यूरो, देहरादून। उत्तराखंड कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने भ्रष्टाचार पर जीरो टालरेंस को लेकर धामी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने आरोप लगाया कि टैबलेट व स्मार्ट फोन की खरीद नियमों को ताक पर रखकर करने की तैयारी है। टेंडर के बजाय पीएसयू के माध्यम से खरीद करने पर विपक्षी दल ने सवाल दागे।

प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में शनिवार को मीडिया से बातचीत में गोदियाल ने कहा कि भाजपा सरकार अपनी चुनावी घोषणा को पूरा करने के लिए साढ़े चार साल बाद नींद से जाग रही है। छात्रों को टैबलेट और स्मार्ट फोन देने का घोषणापत्र में किया गया वायदा पूरा करने के लिए टेंडर प्रक्रिया की अनदेखी की जा रही है। आनन-फानन में बड़े पैमाने पर खरीद के लिए नियम व कानून को ताक पर रखा जा रहा है। कांग्रेस ने इसमें भ्रष्टाचार का अंदेशा जताते हुए खरीद तय मानकों के अनुरूप करने की मांग की है।

जनसंख्या दबाव को सांप्रदायिक रंग देने की हो रही कोशिश

गणेश गोदियाल ने प्रदेश में जनसांख्यिकीय बदलाव और भूमि खरीद-फरोख्त को लेकर सरकार के हालिया कदम पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि जनसंख्या के दबाव को आधार बनाकर सरकार सांप्रदायिक रंग देना चाहती है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होने कहा कि जाति, धर्म या क्षेत्र के आधार पर भेदभाव करना अनुचित है। उन्होंने मूल निवासियों के पलायन को राज्य सरकार की विफलता बताया।

गड़बड़ी पर सरकार ने साधी चुप्पी

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सरकार भ्रष्टाचार में लिप्त है। मुक्त विश्वविद्यालय में गलत तरीके से की गईं नियुक्तियों की जांच नहीं की गई। कुंभ में कोरोना टेस्टिंग घोटाले पर जांच एजेंसी का गठन न करना सरकार की संलिप्तता दर्शाता है। इतने बड़े घोटाले में अधिकारियों का निलंबन और अन्य का नाम नहीं आना संदेह पैदा कर रहा है। समाज कल्याण विभाग में छात्रवृत्ति घोटाले में ठोस कार्रवाई नहीं की गई। कर्मकार कल्याण बोर्ड में करोड़ों रुपये के घोटाले पर सरकार ने चुप्पी साध ली है। गोदियाल ने ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन परियोजना में स्थानीय ठेकेदारों की अनदेखी का आरोप लगाया।

यह भी पढ़ें- मंत्री यशपाल आर्य से मिलने पहुंचे सीएम पुष्कर सिंह धामी, जानिए मुलाकात के बाद वे क्या बोले

स्थानीय ठेकेदारों की हो रही अनदेखी

गोदियाल ने कहा कि यूपीए सरकार के कार्यकाल में ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाईन स्वीकृत हुई थी जिसके लिए उन्होनें पूर्व प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह एवं उस समय की रेल मंत्री ममता बैनर्जी का आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि इस परियोजना में स्थानीय ठेकेदारों का सहयोग नहीं लिया जा रहा है। इससे स्थानीय लोग खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। इस मौके पर प्रदेश मीडिया प्रभारी राजीव महर्षि व महामंत्री संगठन मथुरादत्त जोशी भी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Chunav: भाजपा ने विपक्ष को चुनौती देने को मैदान में उतारे सूरमा, तीन राष्ट्रीय प्रवक्ताओं की लगाई ड्यूटी

Edited By: Raksha Panthri