राज्य ब्यूरो, देहरादून। Uttarakhand Chunav 2022 हाल ही में भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए उत्तरकाशी जिले की पुरोला सीट के पूर्व विधायक मालचंद के भाजपा में वापस लौटने की चर्चा ने राजनीतिक माहौल गर्माए रखा। हालांकि, मालचंद ने इससे इन्कार किया। उन्होंने साफ किया कि वे कांग्रेस में ही बने रहेंगे।

शुक्रवार दिनभर कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के साथ ही पूर्व विधायक मालचंद के भी भाजपा में शामिल होने की चर्चा राजनीतिक गलियारों व इंटरनेट मीडिया में रही। भाजपा के पूर्व विधायक मालचंद गत तीन जनवरी को ही दिल्ली में कांग्रेस में शामिल हुए थे। उन्हें ठीकठाक जनाधार वाला नेता माना जाता है। उनके कांग्रेस में चले जाने से भाजपा को उत्तरकाशी जिले में झटका लगा।

सूत्रों के अनुसार भाजपा इस दौरान लगातार मालचंद से संपर्क करती रही है ताकि उनकी घरवापसी कराई जा सके। शुक्रवार दोपहर को अचानक तेजी से चर्चा चली कि मालचंद जल्द भाजपा में शामिल हो सकते हैं और उन्होंने दिल्ली में भाजपा के केंद्रीय नेताओं से इस सिलसिले में मुलाकात की है। देहरादून में भाजपा नेताओं से पूछे जाने पर कोई स्पष्ट जवाब नहीं मिला, जिससे इस तरह की चर्चा को और बल मिला।

देर शाम फोन पर पूर्व विधायक मालचंद से संपर्क हुआ तो उन्होंने भाजपा में लौटने की बात को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि वह कांग्रेस में हैं। साथ ही स्वीकार किया कि वह दिल्ली गए थे और रात्रि तक देहरादून लौट आएंगे।

ईसाई समुदाय ने की टिकट की मांग

एंग्लो इंडियन विधायक का पद समाप्त किए जाने को लेकर मसीह शांति सेना ने राज्य सरकार के प्रति नाराजगी जाहिर की है। इसके साथ ही सेना ने आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को समर्थन देने का एलान कर पार्टी से संगठन के सदस्यों को टिकट देने की मांग की है।

शुक्रवार को उत्तरांचल प्रेस क्लब में पत्रकारों से रूबरू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश कुमार मैक्स ने कहा कि सरकार ने एंग्लो इंडियन विधायक का पद समाप्त कर ईसाई समुदाय को उपेक्षित करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बढ़ी संख्या में ईसाई निवास करते हैं। बताया कि समुदाय ने कांग्रेस पार्टी से टिकट की मांग की है। इसके लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की गई है। इस अवसर पर बीके दास, नरेन्द्र सिरोला, मनोज कुमार, विकास राय, ललित निगम आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- क्या सरिता आर्य छोड़ रही हैं कांग्रेस, जानिए फिर क्यों भाजपा में शामिल होने की बात ने पकड़ा है जोर

Edited By: Raksha Panthri