राज्य ब्यूरो, देहरादून। Uttarakhand Assembly Winter Session 2020 कोरोना संकट के बीच 21 दिसंबर से शुरू होने जा रहे विधानसभा के तीन दिवसीय शीतकालीन सत्र के लिए विधानसभा तैयारियों में जुट गई है। पिछले सत्र की तरह ही इस बार भी विधायक वर्चुअल आधार पर सत्र से जुड़ सकते हैं। विधानसभा की ओर से इस संबंध में विधायकों से पूछा जा रहा है कि क्या वे सत्र वे वर्चुअली जुड़ना चाहेंगे। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल के अनुसार विधायकों को 15 दिसंबर तक अपनी राय से विधानसभा को अवगत कराने का आग्रह किया गया है, ताकि इसी हिसाब से तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा सके।

विधानसभा का पिछला सत्र 23 सितंबर को हुआ था, तब कोरोना संकट को देखते हुए इसे एक दिन तक सीमित रखा गया था। अब विस का शीतकालीन सत्र तीन दिन का रखा गया है। इस बीच कोरोना संक्रमण के मामले भी बढ़े हैं और सबसे अधिक मामले देहरादून जिले में हैं। ऐसे में चिंता भी बढ़ गई है। हालांकि, विधानसभा द्वारा कोविड के दृष्टिगत ही तैयारियां की जा रही हैं।

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने बताया कि इस बार भी पिछले सत्र की तरह ही व्यवस्थाएं होंगी। सभामंडप में सुरक्षित शारीरिक दूरी के हिसाब से करीब 38 विधायकों के बैठने की व्यवस्था होगी, जबकि शेष विधायकों के बैठने के लिए विस के कक्ष संख्या 107 का विस्तार किया जा रहा है। साथ ही सुरक्षित शारीरिक दूरी और सैनिटाइजेशन आदि की व्यवस्थाएं रहेंगी। उन्होंने बताया कि सत्र में भाग लेने के लिए मंत्री विधायकों को कोरोना जांच अनिवार्य रूप से करानी होगी। जांच रिपोर्ट निगेटिव होने पर ही सदस्यों को सत्र में प्रवेश मिल पाएगा।

प्रश्नकाल चलने की संभावना

विधानसभा का शीतकालीन सत्र तीन दिन का है, ऐसे में प्रश्नकाल चलने की भी संभावना है। पिछले सत्र में प्रश्नकाल नहीं हुआ था। हालांकि, इस सत्र में प्रश्नकाल चलेगा अथवा नहीं, इस बारे में निर्णय विधानसभा की कार्यमंत्रणा समिति लेगी।

यह भी पढ़ें: BJP National President JP Nadda के कोरोना पॉजिटिव होने से उत्तराखंड भाजपा में भी हलचल

Edited By: Raksha Panthari