राज्य ब्यूरो, देहरादून। Uttarakhand Vidhan Sabha Election 2022 निर्वाचन आयोग ने इंटरनेट मीडिया पर बगैर अनुमति के चल रहे चुनाव प्रचार को लेकर भाजपा, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप) व उत्तराखंड क्रांति दल को नोटिस जारी किए हैं। चारों दलों से पूछा गया है कि क्या इस प्रचार सामग्री को मीडिया कंटेट मानीटरिंग कमेटी (एमसीएमसी) से प्रमाणित कराया गया है। साथ ही कहा गया है कि यदि ऐसा नहीं किया गया है तो इसे तुरंत रोकने के साथ प्रमाणित कराना सुनिश्चित करें।

इंटरनेट मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर भाजपा, कांग्रेस, आप व उक्रांद के आधिकारिक पेज पर इन दिनों चुनाव प्रचार किया जा रहा है। निर्वाचन आयोग के निर्देश हैं कि किसी भी प्रकार की प्रचार सामग्री को पहले प्रत्येक जिले की एमसीएमसी से प्रमाणित कराया जाए। इसके बाद ही सामग्री के इंटरनेट मीडिया पर प्रचार की अनुमति होगी।

इस बीच ये बात सामने आई कि राजनीतिक दलों ने प्रचार सामग्री को प्रमाणित नहीं कराया है। इस पर एमसीएमसी के राज्य स्तरीय नोडल अधिकारी नितिन उपाध्याय ने चारों दलों को नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में दलों से कहा गया है कि यदि इंटरनेट मीडिया पर चल रही प्रचार सामग्री को प्रमाणित कराया गया है तो इसकी सूचना आयोग को उपलब्ध कराई जाए। यदि ऐसा नहीं किया गया है तो प्रचार सामग्री को रोककर पहले इसे एमसीएमसी से प्रमाणित कराया जाए। साथ ही इसकी सूचना तत्काल आयोग को भेजी जाए।

1507 लीटर शराब पकड़ी

विधानसभा चुनाव की आचार संहिता के कड़ाई से अनुपालन के लिए मशीनरी लगातार सक्रिय है। इस कड़ी में शुक्रवार को विभिन्न स्थानों पर पुलिस व आबकारी विभाग ने 1507 लीटर शराब पकड़ी। इसके अलावा जगह-जगह बिना अनुमति के लगाए गए 1521 बैनर, पोस्टर हटवाए गए। निर्वाचन आयोग से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को ऊधमसिंह नगर, देहरादून व अल्मोड़ा जिलों में 21.86 लाख रुपये की नकदी भी बरामद की गई। जिलों में अवैध शस्त्र जब्त करने का क्रम भी जारी है। ऊधसिंह नगर में शुक्रवार को चार हथियार जब्त किए गए। लाइसेंसी शस्त्रों को जमा कराने, शांति भंग की आशंका को देखते हुए निरोधात्मक कार्रवाई और गैर जमानती वारंट तामील कराने का क्रम भी निरंतर चल रहा है।

यह भी पढ़ें- अनुसूचित जाति-जनजाति के वोटर भी बदल सकते हैं राजनीतिक दलों की गणित, आरक्षित सीटों पर डालें नजर

Edited By: Raksha Panthri