जागरण संवाददाता, देहरादून। करीब सात साल से पुलिस कांस्टेबल भर्ती की तैयारी कर रहे बेरोजगार युवाओं का इंतजार बढ़ता जा रहा है। बेरोजगार युवाओं ने पुलिस भर्ती में हो रही देरी पर सवाल उठाए हैं। साथ ही तीन दिन के भीतर विज्ञप्ति जारी नहीं होने पर अनशन की चेतावनी दी है। इस संबंध में देवभूमि बेरोजगार मंच के अध्यक्ष राम कंडवाल ने मंगलवार को मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा है।

ज्ञापन में कहा गया कि 27 सितंबर को पुलिस विभाग ने जो 1521 कांस्टेबल पदों के लिए अधियाचन उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को भेजा था, उसे वापस पुलिस मुख्यालय भेज दिया गया है। इससे पुलिस भर्ती की तैयारी कर रहे बेरोजगारों को झटका लगा है। बताया कि कुछ खामियों के चलते अधियाचन पुलिस विभाग को वापस भेज दिया है, लेकिन आयोग के पास करीब 20 दिन तक यह अधियाचन पड़ा रहा, इतने दिनों में विज्ञप्ति में खामियां क्यों नहीं पकड़ी गई। कहीं ऐसा तो नहीं कि बेरोजगारों के साथ छलावा किया जा रहा हो।

बेरोजगार युवाओं को उम्मीद थी कि 18 अक्टूबर को विज्ञप्ति जारी हो जाएगी, लेकिन फिलहाल उन्हें निराशा हाथ लगी है। राम कंडवाल ने कहा कि या तो खुद डीजीपी या फिर चयन आयोग सामने आएं और एक तिथि बताएं कि कब विज्ञप्ति जारी होगी। बताया कि बुधवार को बेरोजगार एक दिन के लिए कोटद्वार में अनशन पर बैठेंगे। अगर 72 घंटे के भीतर विज्ञप्ति जारी नहीं होती है तो 31 अक्टूबर से देहरादून में अनशन पर बैठ जाएंगे, जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

भाजपा की पेंटिंग पर की पुताई, हंगामा

देहरादून के गांधीग्राम में भाजपा कार्यकर्त्‍ताओं की ओर से की गई पेंटिंग पर अज्ञात लोग ने पुताई कर दी। इस पर भाजपा कार्यकर्त्‍ता भड़क गए और पुलिस को तहरीर दी। कार्रवाई न होने पर कार्यकर्त्‍ता मंगलवार रात को लक्ष्मण चौक पुलिस चौकी पहुंचे और हंगामा करने लगे। बाद में पुलिस ने आरोपितों की जल्द गिरफ्तारी का आश्वासन दिया, जिस पर कार्यकर्त्‍ता शांत हुए। पार्षद मीनाक्षी मौर्य व वार्ड अध्यक्ष मनोज ठाकुर ने बताया कि उनकी ओर से पार्टी के पक्ष में गांधीग्राम में कुछ पेंटिंग करवाई गई थी। आरोप है कि समुदाय विशेष के कुछ व्यक्तियों ने पेंटिंग पर पुताई कर दी।

यह भी पढ़ें:- देहरादून: लैब तकनीशियनों ने तेज किया आंदोलन, मुख्य चिकित्साधिकारी को सौंपा ज्ञापन

Edited By: Sunil Negi