देहरादून, जेएनएन। बंधक रखा सोना हड़पने के मामले में फाइनेंस कंपनी के मैनेजर समेत पांच पर रविवार को शहर कोतवाली पुलिस ने दो मुकदमे दर्ज किए हैं। ये मुकदमे दंपती की तहरीर पर कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुए हैं। इसी मामले में दो रोज पहले कंपनी की सहायक शाखा प्रबंधक ने वसंत विहार थाने में मुकदमा दर्ज कराया था।

पुलिस के अनुसार, दोनों मुकदमे पंडितवाड़ी में रहने वाले अनिल तिवारी और उनकी पत्नी श्वेता तिवारी की तहरीर पर दर्ज किए गए हैं। तहरीर में बताया गया है कि अनिल ने वर्ष 2016 से मन्नापुरम फाइनेंस लिमिटेड की चकराता रोड स्थित शाखा में साढ़े पांच किलो सोना बंधक रखकर 1.65 करोड़ रुपये का ऋण लिया था। जरूरत पड़ने पर 20 दिसंबर 2019 को उन्होंने 14 लाख रुपये का भुगतान कर कंपनी से 531.7 ग्राम सोना लेने के लिए आवेदन किया।

उस रोज कंपनी के शाखा प्रबंधक कुलविंदर सिंह, सहायक शाखा प्रबंधक निशा नेगी, क्षेत्रीय प्रबंधक चंडीगढ़ रेंज रमनजुला रेड्डी, क्षेत्रीय हेड ऑडिट मनीकंदम और आइटी सेल के अधिकारी रवि कुमार ने सभी औपचारिकताएं परी करने में रात कर दी। इसके बाद कहा कि अगले दिन यानी 21 दिसंबर 2019 को सोना दिया जाएगा। अनिल अगले दिन कंपनी पहुंचे तो बताया गया कि लॉकर से सोना गायब हो गया है।

यह भी पढ़ें: देहरादून: एक ही संपत्ति पर दो बार लिया लोन, 13 पर मुकदमा दर्ज

इस पर हेड ऑफिस को मेल की गई, जिसमें बताया गया कि सोना अनिल को दे दिया गया है। इस बाबत पूर्व में दस्तखत कराए गए कागजात भी दिखाए। इस मामले की शिकायत जून 2020 में पुलिस से की गई थी, लेकिन पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया। इसके बाद अनिल और उनकी पत्नी ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया। जिसके आधार पर कोतवाली पुलिस ने रविवार को कंपनी के अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया।

यह भी पढ़ें: क्लोन चेक बना शिक्षिका के खाते से निकाले सवा चार लाख रुपये, पुलिस ने अकाउंट कराया फ्रीज

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस