देहरादून, जेएनएन। पेटीएम के प्रेसीडेंट की ससुराल में चोरी करने के आरोप में डालनवाला थाना पुलिस ने मल्टी नेशनल कंपनी में सेवारत सिविल इंजीनियर और साइकलिस्ट को गिरफ्तार किया है। दोनों के पास से पुलिस को 70 हजार की नगदी, हीरा, सोने-चांदी के जेवरात, अमेरिकी डॉलर, आइपॉड आदि बरामद हुए। पुलिस ने दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। 

डालनवाला थाना पुलिस के अनुसार पेटीएम के प्रेसीडेंट अमित नैय्यर के ससुर कमलजीत प्रधान और सास विश्वजीत प्रधान म्यूनिसिपल रोड पर रहते हैं। वे बीते 13 नवंबर को पूना के साइकलिंग ट्रैक पर गए थे। इसी बीच 24 नवंबर की देर रात पुलिस पिकेट ने गश्त के दौरान देखा कि उनके घर के खिड़की की जाली टूटी हुई है। 

पुलिस को शक हुआ और पड़ोसियों से  पूछताछ की। इसमें सामने आया कि यह धीमान दंपती का घर है। टीम ने पड़ोसियों से नंबर लेकर धीमान दंपती को चोरी होने की सूचना दी। साथ ही पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी। सूचना पर धीमान दंपती 27 नवंबर को देहरादून पहुंचे। 

उन्होंने देखा कि घर का सारा सामान बिखरा हुआ है। अलमारी के दरवाजे टूटे हुए हैं। अलमारी में रखे अमेरिकी डॉलर, हीरे के टॉप्स, सोने के झुमके, चेन, कुंडल, अंगूठी, चूडिय़ां, कड़े, चांदी की पायल, झुमके, अंगूठी, चेन आदि जेवरात, एक लाख की नगदी, आइपॉड, कैमरा आदि गायब थे। 

इधर पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली की रायपुर रोड से चोरी की स्कूटी से दो युवक कर्जन रोड तिराहे की तरफ जा रहे हैं। इसके बाद पुलिस ने कर्जन रोड तिराहे से चोरी की स्कूटी समेत दो युवकों को पकड़ लिया। स्कूटी के दस्तावेज दिखाने के लिए कहा तो दोनों बहानेबाजी करने लगे। बाद में उन्होंने चोरी की स्कूटी होने की बात कबूल की। 

पूछताछ में उन्होंने अपना नाम आकाश सिंह निवासी अधोइवाला और मोहित सिंह निवासी बलवीर रोड, डालनवाला बताया। पुलिस ने जब उनकी तलाशी ली तो उनके पास से अमेरिकी डॉलर, हीरे के जेवरात आदि बरामद हुए। सख्ती से पूछताछ करने पर उन्होंने पेटीएम के प्रेसीडेंट की ससुराल में हुई चोरी की बात भी कबूल ली। पुलिस टीम में डालनवाला एसओ राजीव रौथाण, आराघर चौकी इंचार्ज राजेश असवाल, दरोगा अरुण असवाल व प्रद्युमन, कांस्टेबल दरबान सिंह शामिल थे। 

शातिर ढंग से अंजाम दी चोरी की वारदात

पेटीएम प्रेसीडेंट के ससुराल में चोरी करने वाले आकाश सिंह गुरुग्राम की एक मल्टीनेशनल कंपनी में सिविल इंजीनियर है और मोहित साइकलिस्ट है। मोहित सिंह और सिविल इंजीनियर आकाश ने चोरी की वारदात को बेहद सधे अंदाज में अंजाम दिया। उन्होंने पुलिस की आंखों में धूल झोंकने के लिए रायपुर रोड से पहले एक स्कूटी चोरी की। ताकि सीसीटीवी फुटेज, लोगों से पूछताछ में पुलिस इस चोरी की स्कूटी में उलझ जाए और उन तक नहीं पहुंच सके। हालांकि, दोनों अपने इरादों में सफल नहीं हो सके। स्कूटी चोरी के मामले में भी वाहन स्वामी भानु प्रताप सिंह निवासी डील कॉलोनी ने रिपोर्ट दर्ज कराई है। 

यह भी पढ़ें: ऑफिस से पौने दो लाख रुपये चुराने वाला गिरफ्तार Dehradun News

मोहित को थी धीमान दंपती के दून में नहीं होने की जानकारी

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अरुण मोहन जोशी के मुताबिक, पुलिस जांच में सामने आया कि मोहित सिंह का एक साइकलिस्ट होने के कारण धीमान परिवार के यहां आना जाना था। वह जानता था कि धीमान दंपती 13 नवंबर को साइकलिंग ट्रैक पर गई है। इसलिए उसने अपने दोस्त आकाश के साथ मिलकर उनके घर चोरी की योजना बनाई। 

यह भी पढ़ें: दिनदहाड़े एक लाख रुपये के टप्पेबाजी करने वाले दो शातिर अपराधियों पर गैंगेस्टर

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस