जागरण संवाददाता, देहरादून। दीपावली पर त्योहारी सीजन के अंतर्गत बसों में बगैर छुट्टी लिए तय किए गए किमी पूरे करने पर रोडवेज के चालक व परिचालकों को परिवहन निगम की तरफ से नकद राशि पुरस्कार के तौर पर दी जाएगी। धनतेरस, छोटी दीपावली समेत गोवर्धन पूजा व भाईदूज पर निर्धारित किमी पूरे करने वाले चालक और परिचालकों को अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि मिलेगी।

दीपावली पर बड़ी संख्या में रोडवेज चालक व परिचालक छुट्टी पर रहते हैं। कई दफा चालक व परिचालक एक-एक हफ्ते तक भी डयूटी पर नहीं आते। ऐसे में रोडवेज ने अपने कर्मियों को ड्यूटी पर लाने और बसों के सुचारू संचालन के लिए प्रोत्साहन राशि देने का फैसला लिया है। प्रोत्साहन राशि की योजना 30 अक्टूबर से 10 नवंबर तक कुल 11 दिन लागू मानी जाएगी। महाप्रबंधक दीपक जैन ने बताया कि 11 दिन में कर्मचारियों को एक छुट्टी मिलेगी। इसमें मैदानी मार्गो पर चालक व परिचालक को इन 10 दिनों में कुल 2750 किमी की डयूटी देनी होगी। इसके अलावा पर्वतीय व मैदानी मिश्रित मार्ग पर निर्धारित 2200 किमी, जबकि मैदानी मार्ग पर 1980 किमी पूरे करने होंगे। निर्धारित किमी करने पर चालक और परिचालकों को एक हजार रुपये की राशि प्रोत्साहन के रूप में मिलेगी। ये योजना कार्यशाला, तकनीकी कर्मियों पर भी लागू रहेगी। प्रोत्साहन योजना के दिनों में कार्यशाला के तकनीकी कर्मियों को पूरे 11 दिन ड्यूटी करने पर छह सौ रुपये और बाह्य स्त्रोत के कर्मियों को पांच सौ रुपये प्रोत्साहन राशि मिलेगी।

संचालन में सीधे तौर पर जुड़े डीजल, बैग, चेकिंग, कैशियर और समयपाल को भी उक्त अवधि में पूरे 11 दिन ड्यूटी करने पर पांच सौ रुपये की धनराशि मिलेगी। इसके अतिरिक्त दो अक्टूबर को धनतेरस, तीन अक्टूबर छोटी दीपावली, पांच अक्टूबर को गोवर्धन पूजा एवं छह अक्टूबर भाईदूज पर डयूटी करने वालों के लिए अलग ईनाम रखा गया है। इन चार दिन मैदानी मार्गो पर 1850 किमी, मिश्रित मार्गो पर 1400 और पर्वतीय मार्गो पर 1000 किमी ड्यूटी करने पर एक हजार रुपये अतिरिक्त पुरस्कार दिया जाएगा।

त्योहारी सीजन में उच्चतम आय पर तीन डिपो के एजीएम व उपाधिकारियों को भी प्रोत्साहन राशि मिलेगी। इसके साथ ही इस अवधि में प्रत्येक डिपो की आय की समीक्षा की जाएगी और सबसे कम आय देने वाले पांच-पांच चालक व परिचालकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान यदि किसी का साप्ताहिक अवकाश पड़ता है तो वह उसे बाद में देय होगा।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड में आई आपदा से पेयजल योजनाओं को करीब 38 करोड़ का नुकसान, मंत्री ने दिए ये निर्देश