जागरण संवाददाता, देहरादून। कैंट कोतवाली पुलिस ने लाइफ इंश्योरेंस पालिसी मिच्योर होने के नाम पर धोखाधड़ी कर 18 लाख, 56 हजार, 569 रुपये हड़पने वाले तीन शातिरों को दिल्ली से गिरफ्तार किया है। मामले में अब तक चार आरोपित गिरफ्तार हो चुके हैं, जबकि कुछ अभी फरार चल रहे हैं।

कैंट कोतवाली के इंस्पेक्टर विद्याभूषण नेगी ने बताया कि 20 जनवरी को प्रीति नवानी निवासी राजेंद्र नगर, कौलागढ़ ने तहरीर दी कि कुछ शातिरों ने उनके जीजा वीरेंद्र प्रसाद कोटनाला से ठगी कर ली है। शिकायतकर्ता की ओर से दिए मोबाइल नंबर व बैंक खाते की जांच की गई तो पाया कि 19 जून 2020 को दीपक निवासी शकूरपुर, नार्थ वेस्ट दिल्ली के खाते में 9,53,491 रुपये गए हैं। पुलिस टीम ने जब आरोपित के घर पर दबिश दी तो पता चला कि दीपक अब उस पते पर नहीं रहता है।

पुलिस ने किसी तरह दीपक के घर का पता कर उसे स्वरूप नगर दिल्ली से गिरफ्तार किया। पूछताछ में उसने बताया कि उसका खाता प्रदीप उर्फ सोनू निवासी रानी बाग दिल्ली इस्तेमाल कर रहा है। पुलिस टीम दीपक को साथ लेकर रानी बाग पहुंची, जहां पता चला कि प्रदीप उर्फ सोनू अपने मित्र विजय को कुछ पैसे देने के लिए उसके पास महाराजा अग्रसेन अस्पताल, पंजाबी बाग, दिल्ली गया है। टीम तुरंत महाराजा अग्रसेन अस्पताल पहुंची, जहां प्रदीप व उसके दोस्त मानी मट्टू उर्फ विजय निवासी शकूरपुर दिल्ली को गिरफ्तार किया गया।

आरोपित प्रदीप ने बताया कि उसने ही दीपक से मानी मट्टू के कहने पर उसका बैंक का खाता नंबर मांगा था। पैसे मानी मट्टू ने दीपक के खाते में डाले थे। आरोपित प्रदीप से 65 हजार रुपये व विभिन्न बैंकों के आठ एटीएम कार्ड बरामद किए गए हैं। इस मामले में पुलिस ने बीते सात जून को एक अन्य आरोपित रंजन कुमार यादव को दिल्ली से गिरफ्तार किया था, जो इस समय जेल में है।

यह भी पढ़ें- Cyber Crime In Uttarakhand: उत्तराखंड में दो दिन में 60 शिकायतें, पौने चार लाख रुपये कराए वापस

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Raksha Panthri