देहरादून, राज्य ब्यूरो नए साल में सरकार ने 10 भाजपा कार्यकर्ताओं को तोहफा देते हुए दायित्वों से नवाजा है। इन्हें विभिन्न परिषद और समितियों के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष का दायित्व सौंपने के साथ ही राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया है।

सरकार अभी तक 30 से अधिक भाजपा कार्यकर्ताओं को विभिन्न परिषदों और समितियों में दायित्व सौंप चुकी है। अब इस कड़ी में शासन ने 10 और कार्यकर्ताओं को दायित्वों से नवाजा है। 

खटीमा निवासी राजवीर सिंह को उत्तराखंड राज्य बीज एवं जैविक उत्पाद प्रमाणीकरण संस्था का अध्यक्ष बनाया गया है। देहरादून निवासी विश्वास डाबर को उत्तराखंड आवास एवं विकास परिषद का अध्यक्ष बनाया गया है। हल्द्वानी निवासी प्रो. बहादुर सिंह बिष्ट को उत्तराखंड राज्य उच्च शिक्षा उन्नयन समिति का उपाध्यक्ष बनाया गया है। 

श्रीनगर, गढ़वाल निवासी अतर सिंह असवाल और चंबाद निवासी अतर सिंह तोमर को सिंचाई सलाहकार समिति में उपाध्यक्ष का दायित्व सौंपा गया है। हरिद्वार निवासी शोभा राम प्रजापति को माटी कला बोर्ड का उपाध्यक्ष बनाया गया है। बेरीनाग, पिथौरागढ़ निवासी फकीर राम टम्टा को समाज कल्याण योजना अनुश्रवण समिति का उपाध्यक्ष बनाया गया है। 

वहीं, देहरादून निवासी खेम पाल सिंह को पिछड़ा वर्ग कल्याण परिषद का उपाध्यक्ष, डोईवाला, देहरादून निवासी करन बोहरा को उत्तराखंड वन पंचायत सलाहकार परिषद और बहादराबाद, हरिद्वार निवासी सुशील चौहान को जैविक उत्पाद परिषद का उपाध्यक्ष बनाया गया है।  

दायित्व वितरण में सरकार ने साधा संतुलन

मंत्रिमंडल विस्तार की तैयारियों के बीच सरकार ने 10 पार्टी नेताओं को राज्य मंत्री के दर्जे के साथ दायित्व सौंप यह संकेत दे दिए कि अब पार्टी विधानसभा चुनाव की तैयारियों में पूरी तरह जुट गई है। दायित्व बटवारे में क्षेत्रीय और जातीय संतुलन साधने के साथ ही वरिष्ठता को तवज्जो दी गई है। 

महत्वपूर्ण बात यह कि इस बार भी पार्टी विधायकों को दायित्व सौंपने से पूरी तरह गुरेज किया गया। उत्तराखंड में इन दिनों भाजपा में माहौल पूरी तरह सरगर्म है। कारण, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जल्द मंत्रिमंडल विस्तार के संकेत दिए हैं। मंत्रिमंडल में तीन स्थान खाली हैं और मंत्री पद के दावेदारों की संख्या है 40 से ज्यादा। 

यही वजह है कि पिछले कुछ दिनों से भाजपा विधायक खुद को मंत्रिमंडल का हिस्सा बनाने की कोशिशों में जुटे नजर आ रहे हैं। दून से दिल्ली तक लाबिंग शुरू हो गई है ताकि हर स्तर पर अपने संपर्को का इस्तेमाल किया जा सके। इधर, मंगलवार को मुख्यमंत्री ने अचानक 10 पार्टी नेताओं को राज्यमंत्री के दर्जे के दायित्वों से नवाज दिया। 

इसके साथ ही अब सरकार में मंत्री पद के साथ दायित्वों की संख्या लगभग 40 तक पहुंच गई है। महत्वपूर्ण बात यह कि दायित्व बटवारे में गढ़वाल व कुमाऊं के पर्वतीय जिलों के साथ ही हरिद्वार व ऊधमसिंह नगर जैसे मैदानी जिलों को भी प्रतिनिधित्व दिया गया है। इस स्थिति में माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री मंत्रिमंडल विस्तार का कदम भी जल्द ही उठाने जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: बढ़ती महंगाई समेत कई मुद्दों को लेकर कांग्रेस करेगी प्रदेशव्यापी आंदोलन

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में उत्तराखंड में भाजपा सरकार आगामी मार्च में तीन साल का कार्यकाल पूर्ण करने जा रही है। अब सरकार के पास अगले विधानसभा चुनाव के लिए दो साल का वक्त ही शेष है। पार्टी विधायकों को मंत्रिमंडल की रिक्त सीटों पर जगह देने के साथ ही संगठन से जुड़े नेताओं को दायित्वों के जरिये सत्ता से जोड़ने का कदम पार्टी की चुनावी तैयारी के परिप्रेक्ष्य में ही देखे जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: त्रिवेंद्र मंत्रिमंडल की तीन रिक्त कुर्सियों के 40 से ज्यादा तलबगार

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस