देहरादून। स्वामी अग्निवेश ने कालेधन पर केंद्र सरकार के साथ ही दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कालेधन पर केंद्र सरकार कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर पाई है। वहीं, दिल्ली की सरकार भी अफसरों की पोस्टिंग तक ही सीमित है।
जज कालोनी में आयोजित पत्रकार वार्ता में उन्होंने कहा कि मॉरिशस के रास्ते भारत में बड़े पैमाने में कालाधन आ चुका है। इस तरफ केंद्र सरकार ध्यान नहीं दे रही है। ललित मोदी मामले में स्वामी अग्निवेश ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुप्पी तोड़नी चाहिए। साथ ही उन्हें सुषमा स्वराज व वसुंधरा राजे से इस्तीफा मांगना चाहिए। साथ ही पूरे प्रकरण की जांच फास्ट ट्रैक कोर्ट की तर्ज पर कराई जानी चाहिए।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की चुप्पी से जनता में अविश्वास पैदा हो रहा है। साथ ही उनकी विश्वसनीयता तेजी से गिर रही है। उन्होंने कहा कि हम भ्रष्टाचार के खिलाफ फिर से आंदोलन की रूपरेखा तैयार कर रहे हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए उन्हें कहा कि अन्ना के नेतृत्व में जो आंदोलन हुआ, उसे हाईजेक कर लिया गया। उससे उपजी पार्टी ने जो वादे किए थे, उस दिशा में कोई कार्य नहीं हुआ। दिल्ली सरकार का ध्यान अफसरों की पोस्टिंग तक ही सीमित है।
उन्होंने कहा कि केजरीवाल और मनीष सिसोदिया पहले अपने बच्चों का सरकारी स्कूल में एडमिशन कराना चाहिए। तब शिक्षा व्यवस्था में सुधार होगा। उन्होंने दिल्ली सरकार के बजट की तारीफ भी की। साथ ही यह भी कहा एलजी के साथ विवाद में दिल्ली का विकास प्रभावित हो रहा है। केजरीवाल को समझना चाहिए कि दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं मिल सकता।
पढ़ें-'राष्ट्रविरोधी तत्वों से मिल सियासी दुकान चला रहे स्वामी अग्निवेश'

By Bhanu