छात्रों ने सीखी ड्रोन विकसित करने की तकनीकी

जागरण संवाददाता, ऋषिकेश : ओमकारानंद इंस्टीट्यूट आफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलाजी में आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में छात्रों को ड्रोन तकनीकी तथा एप्लीकेशन की बारीकियों से अवगत कराया गया। शुक्रवार को इंस्टीट्यूट में यूसर्क के तत्वावधान में आयोजित कार्यशाला में टेक्नोहब लैबोरेट्री देहरादून की तरफ से कंपनी के टेक्नीशियन ने छात्र छात्राओं को खुद से ड्रोन विकसित करने की तकनीक से अवगत कराया। जिससे भविष्य में छात्र-छात्राएं खुद से ड्रोन बना सकें। कार्यशाला में ड्रोन तकनीकी और उसकी एप्लीकेशन को उत्तराखंड में कैसे प्रयोग में लाया जा सके इस पर विस्तृत चर्चा की गई। ड्रोन में जीपीएस सिस्टम का उपयोग एवं उसके कई प्रकारों की जानकारी दी गई। प्रतिभागियों को बताया गया कि ड्रोन कैसे उड़ता है, उसके विंग्स किस प्रकार काम करते हैं। साथ ही उन्होंने छात्र-छात्राओं को बताया कि हम एक नए ड्रोन को विकसित कर रहे हैं, जो कि एंटी-क्रैश तकनीकी पर आधारित होगा। इस अवसर पर सभी प्रतिभागी छात्र छात्राओं को प्रमाण पत्र वितरित किए गए। कार्यशाला का उद्घाटन संस्थान के निदेशक डा. विकास गैरोला, डीन प्रमोद उनियाल व कंप्यूटर विभाग के विभागाध्यक्ष अनिल रणाकोटी ने किया। इस अवसर पर अनामिका अरोड़ा, शिवांगी भाटिया, अर्जुन बिष्ट, सनिल रावत, कैलाश जोशी, नवीन द्विवेदी, योगेश लखेडा आदि मौजूद रहे। - दुर्गा नौटियाल

Edited By: Jagran