राज्य ब्यूरो, देहरादून: पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने उत्तराखंड के टिहरी, पौड़ी, अल्मोड़ा व बागेश्वर जिलों के साथ ही देहरादून के चकराता क्षेत्र में कार्यरत केंद्रीय कर्मचारियों को भी विशेष क्षतिपूर्ति भत्ता देने की पैरवी की है। इस सिलसिले में उन्होंने केंद्रीय वित्त मंत्री का ध्यान भी आकृष्ट कराया है। शुक्रवार को विधानसभा स्थित कार्यालय में संवाददाताओं से बातचीत में कैबिनेट मंत्री महाराज ने यह जानकारी दी। कहा कि सातवें वेतन आयोग की संस्तुतियों के आधार पर केंद्रीय कर्मचारियों के लिए निर्धारित विशेष क्षतिपूर्ति भत्ते के वर्गीकरण बी, सी व डी में राज्य के टिहरी, पौड़ी, अल्मोड़ा व बागेश्वर जिलों के अलावा चकराता क्षेत्र को शामिल नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि इन जिलों की भौगोलिक स्थिति भी अन्य जिलों की भांति है। यहां कार्यरत केंद्रीय कर्मियों को इस भत्ते से वंचित रखने से उन्हें आर्थिक नुकसान के साथ ही मनोबल भी हतोत्साहित होगा। उन्होंने वित्त मंत्री से आग्रह किया कि इन क्षेत्रों को किसी एक वर्गीकरण पार्ट में मानक के अनुसार शामिल किया जाए। ------- देवभूमि में स्लाटर हाउस का विरोध एक सवाल के जवाब में कैबिनेट मंत्री महाराज ने कहा कि एक संत होने के नाते वह देवभूमि में स्लाटर हाउस का विरोध करते हैं। यह उनकी निजी राय है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में स्लाटर हाउस होने ही नहीं चाहिए। किसी भी जीव की यहां हत्या नहीं होनी चाहिए। ---------- कांवड़ यात्रा को देंगे मेले का स्वरूप -वैष्णो देवी की तर्ज पर कांवड़ यात्रियों के लिए विकसित करेंगे सुविधाएं -इस बार गंगाजल लेने उत्तराखंड आए 3.76 करोड़ कांवड़ यात्री ---- राज्य ब्यूरो, देहरादून: सावन माह में इस बार 3.76 करोड़ कांवड़ यात्री गंगा जल लेने उत्तराखंड आए। सभी व्यवस्थाएं चाक-चौबंद रहीं और किसी को भी कहीं कोई परेशानी नहीं हुई। यह कहना है पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज का। उन्होंने कहा कि भविष्य में कांवड़ यात्रा को हरिद्वार में मेले का स्वरूप दिया जाएगा। साथ ही वहां वैष्णोदेवी की तर्ज पर यात्रियों के लिए सुविधाएं विकसित की जाएंगी। संवाददाताओं से बातचीत में पर्यटन मंत्री महाराज ने कांवड़ यात्रा के मद्देनजर वैष्णो देवी की तर्ज पर हरिद्वार में कांवड़ यात्रियों के लिए शौचालय समेत सुविधाएं विकसित की जाएंगी। साथ ही उनकी आवाजाही सुगम बनाने के मद्देनजर सड़कों के चौड़ीकरण और वैकल्पिक मार्गाें पर भी फोकस रहेगा। ---- चारधाम में अब तक 22.83 लाख ने किए दर्शन पर्यटन मंत्री ने बताया कि चारधाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री में इस साल अब तक 22.83 लाख श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं। अभी मानसून के कारण यात्रा कुछ धीमी है, लेकिन आने वाले दिनों में श्रद्धालुओं का फ्लो और बढ़ेगा। इस साल करीब 28 लाख श्रद्धालुओं के यहां आने का अनुमान है, जो रिकार्ड होगा। ---