डोईवाला, जेएनएन। थानों न्याय पंचायत क्षेत्र में आए दिन हाथियों के उत्पात को रोकने के लिए वन विभाग द्वारा हाथी प्रभावित क्षेत्रों में चिल्ली स्मोक (थेंबा) का उपयोग किया जा रहा है। वही, हाथी प्रभावित इलाकों में सुरक्षा दीवार, खाई व ऊर्जा बाढ लगाए जाने के लिए कैंपा योजना के अंतर्गत शासन को प्रस्ताव भेजा गया है। 

थानों वन रेंज के अंतर्गत विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों हाथियों का आतंक जारी है। जंगल की सीमा से निकलकर हाथियों का झुंड आबादी क्षेत्र में घुसकर किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। थानों वन रेंज अधिकारी डॉक्टर उदय गौड़ ने बताया कि चिल्ली स्मोक (थेंबा) एक तरफ से मिर्ची वाले धुएं से निर्मित मशाल है। इस मशाल पर आग लगाने से मिर्ची वाला धुंआ इलाके में फैल जाता है। जिससे आसपास के इलाके में हाथी नहीं घुसते हैं। 

उन्होंने बताया कि वन विभाग की पूरी टीम द्वारा हाथी प्रभावित क्षेत्रों में इस तरह की मशाल लगाई गई है। वहीं ग्रामीणों को भी एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि कुछ लोग जान  जोखिम में डालकर बिना सुरक्षा व्यवस्था के हाथियों को भगाने के लिए निकल जाते हैं, जो कि गलत है। उन्होंने बताया कि थानों वन क्षेत्र के कालूवाला, मिढावाला, रामनगर डांडा, कुडियाल गांव, जोलीग्रांट आदि हाथी प्रभावित जगहों में कैंपा योजना के अंतर्गत एक किलोमीटर हाथी सुरक्षा दीवार, 800 मीटर जंगल से सटे इलाकों में खाई वह ऊर्जा बाढ़ लगाए जाने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है।

उन्होंने बताया कि विभाग और शासन स्तर से धनराशि मिलते ही इस दिशा में भी काम किया जाएगा। उन्होंने बताया कि हाथी प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को एहतियात बरतने के लिए भी कहा गया है। वहीं विभाग की टीम मुस्तैदी के साथ अपनी ड्यूटी कर रही है। 

यह भी पढ़ें: आबादी क्षेत्र में घुसे हाथियों ने ढाया कहर, गन्ने व धान की फसल रौंदी NAINITAL NEWS

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस