जागरण संवाददाता, देहरादून। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच लोग सेल्फ टेस्टिंग किट का इस्तेमाल तेजी से कर रहे हैं। वह खुद अपनी जांच और इलाज भी खुद ही कर रहे हैं। ऐसे में स्वास्थ्य सचिव डा. पंकज कुमार पांडेय ने सेल्फ टेस्टिंग किट की निगरानी के निर्देश दिए हैं। वहीं, उन्होंने दवाओं की जमाखोरी व कालाबाजारी रोकने के लिए वृहद स्तर पर छापामारी के निर्देश भी दिए हैं।

सचिव के निर्देश पर औषधि नियंत्रक हेमंत नेगी ने शुक्रवार को कैमिस्ट एवं ड्रगिस्ट एसोसिएशन के पदाधिकारियों से वर्चुअल संवाद किया। उन्होंने कोरोना संक्रमण के उपचार से जुड़ी दवाओं की कालाबाजारी नहीं होने देने, स्टाक न करने और अधिक दाम न वसूलने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोविड सेल्फ टेस्टिंग किट की बिक्री की भी अब निगरानी की जा रही है। इसका रिकार्ड सुरक्षित रखने एवं सीएमओ को प्रतिदिन सूचना देने के निर्देश उन्होंने दिए।

सहायक औषधि नियंत्रक एसएस भंडारी ने रिटेलर और अस्पतालों को एक बार में 25 से ज्यादा सेल्फ टेस्टिंग किट नहीं देने की हिदायत दी। उन्होंने कहा कि इन निर्देशों का सख्ती से पालन किया जाए। विभाग की एक टीम इसके लिए सत्यापन अभियान भी चलाएगी। वरिष्ठ औषधि निरीक्षक नीरज कुमार ने कहा कि दवाओं की जमाखोरी व कालाबाजारी रोकने के लिए शनिवार से वृहद स्तर पर अभियान चलाया जाएगा।

उत्तराखंड में लगातार दूसरे दिन तीन हजार से अधिक मामले

उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार बढ़ती जा रही है। संक्रमितों की संख्या बढऩे के साथ ही मौत के मामले भी बढ़ रहे हैं। वहीं, कोरोना संक्रमण दर भी बढ़कर 11.48 प्रतिशत तक पहुंच गया है। शुक्रवार को प्रदेश में कोरोना के 3200 नए मामले मिले। वहीं, कोरोना संक्रमित तीन मरीजों की मौत भी हुई है।

यह भी पढ़ें- कोरोना के हल्के लक्षण भी हैं तो वैक्सीन से पहले कराएं जांच, जानिए क्या है डाक्टरों की सालह

Edited By: Raksha Panthri