जागरण संवाददाता, ऋषिकेश : नगर पंचायत जौंक-स्वर्गाश्रम में कुंभ मेले के लिए सफाई कर्मचारियों की नियुक्ति में फर्जीवाड़ा सामने आया है। एक जनप्रतिनिधि की शिकायत पर जब अपर जिलाधिकारी पौड़ी ने भौतिक सत्यापन किया तो कागजों में नियुक्त कर्मचारी धरातल पर गायब मिले। 

नगर पंचायत जौंक-स्वर्गाश्रम में कुंभ मेला के लिए तीन सौ अस्थायी सफाई कर्मचारियों की तैनाती की जानी थी। जिनमें से करीब 232 कर्मचारी पिछले एक पखवाड़े से यहां काम कर रहे हैं। एक स्थानीय जनप्रतिनिधि की शिकायत पर बुधवार को अपर जिलाधिकारी डॉ. शिव ङ्क्षसह बरनवाल यहां जांच के लिए पहुंचे थे। सायंकालीन शिफ्ट में 96 कर्मचारियों की यहां तैनाती की गई थी, जबकि भौतिक सत्यापन करने पर महज 52 कर्मचारी ही मौजूद मिले। जिस पर अपर जिलाधिकारी ने कर्मचारियों की आइडी के आधार पर ही भुगतान करने के आदेश जारी किए हैं। अपर जिलाधिकारी डॉ. शिव ङ्क्षसह बरनवाल ने बताया कि अभिलेखों के हिसाब से मौजूद कर्मचारियों की संख्या में बड़ा अंतर सामने आया है, जो जनप्रतिनिधि की शिकायत को पुख्ता करता है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा कर्मचारियों को ग्लब्ज, जैकेट, गमबूट व अन्य उपकरण भी उपलब्ध नहीं कराए गए हैं। जिसकी रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी गई है।

नाराज सफाई कर्मियों ने सफाई कार्य किया बंद 

शिकायत के बाद अपर जिलाधिकारी की सख्ती के चलते सफाई कर्मचारियों ने गुरुवार को नगर पंचायत में कूड़ा उठान व साफ-सफाई का काम बंद रखा। पूरे नगर क्षेत्र में गुरुवार को कूड़ा उठान व सफाई नहीं हो पाई। सफाई कर्मचारियों का आरोप था कि नियुक्ति के समय सभी औपचारिकताएं पूरी नहीं की गई और अब उन्हें बेवजह परेशान किया जा रहा है। उन्होंने नगर पंचायत प्रशासन पर हैंड ग्लब्ज, जैकेट व अन्य उपकरण भी उपलब्ध न कराने का आरोप लगाया। उनका कहना था कि एक पखवाड़े तक काम लेने के बाद उन्हें भुगतान नहीं दिया जा रहा है। विरोध करने वालों में चमन देवी, लज्जावती, प्रदीप, विक्की, संजय, अरुण, गीता, आशा, पप्पू, उर्मिला, रीना देवी, सविता देवी आदि मौजूद थे।

 नगर पंचायत जौंक स्वर्गाश्रम के  अधिशासी अधिकारी  मोहन प्रसाद गौड़ का कहना है कि कुंभ मेले में सफाई व्यवस्था को प्रभावित नहीं होने दिया जाएगा। यह मामला अस्थायी कर्मचारियों का है। इस संबंध में आउटसोर्स कंपनी जङ्क्षस्टग ग्लोबल से स्पष्टीकरण मांगा गया है। हैंड ग्लब्ज, जैकेट, गमबूट आदि सामान ट्रांसपोर्ट से अभी नही पहुंच पाया है, पहुंचते ही कर्मचारियों को उपलब्ध करा दिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें- पलटन बाजार में दमकल व एंबुलेंस के लिए भी नहीं बची जगह, व्‍यापारियों ने समय पर कार्य पूरा करने की उठाई मांग

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप