जागरण संवाददाता, रुड़की : रविवार की सुबह रुड़की बस अड्डे पर यात्रियों को दिल्ली की बसें नहीं मिल सकी, जिसकी वजह से उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ा। यात्री परिवहन निगम के अधिकारियों से बस भेजने की मांग करते रहे, लेकिन अधिकारियों ने भी कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई।

रुड़की में बाईपास बन जाने की वजह से हरिद्वार एवं देहरादून से आने वाली उत्तराखंड परिवहन निगम व अन्य राज्यों की रोडवेज बसें बाईपास से ही निकल जा रही है। जबकि, रुड़की बस अड्डे पर यात्री घंटों तक बसों के आने का इंतजार करते रहे। सुबह आठ बजे के बाद एक या दो बसें ही आई, लेकिन उनमें भी सीट नहीं थी।

53 सीटर बस में 60 से 65 सवारियां तक भरी थी। गर्मी के मारे यात्रियों का बुरा हाल रहा। यात्रियों ने रुड़की डिपो के टाइम आफिस से लेकर स्टेशन इंचार्ज से दिल्ली के लिए बस भेजे जाने की मांग उठाई। इस पर अधिकारियों ने बताया कि अभी चालक-परिचालक ड्यूटी पर नहीं आए हैं। जो बसें थी वह भेज दी गई है। जिस पर यात्री परेशान होते रहे।

दिल्ली जा रहे यात्री मयंक शर्मा, जितेन्द्र शर्मा एवं सुनील ने बताया कि एक से डेढ़ घंटे इंतजार के बाद भी रुड़की डिपो पर बस नहीं मिल पा रही है। तमाम बसें खड़ी हैं। लेकिन, डिपो के अधिकारी बस नहीं भेज रहे हैं। वहीं रुड़की डिपो के वरिष्ठ केंद्र प्रभारी विवेक कपूर ने बताया कि रुड़की बस अड्डे से निर्धारित बसों को भेज दिया था। अतिरिक्त बस की व्यवस्था नहीं हो सकी।

शनिवार, रविवार को होने लगी परेशानी

रुड़की डिपो पर शनिवार एवं रविवार को यात्रियों की भीड़ बढऩे पर बसों की कमी से यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल, अन्य राज्यों की बसें हरिद्वार या देहरादून से रुड़की आने के बजाए बाईपास से ही निकल जा रही है। जिसकी वजह यह है कि देहरादून एवं हरिद्वार से ही उनको दिल्ली की पर्याप्त सवारियां मिल रही है। वहीं उत्ततराखंड परिवहन निगम की दिल्ली रूट पर बसें ही कम संख्या में है।

कोटद्वार: सिद्धबली पुल से सनेह रोड तक लगा जाम

सिद्धबली पुल से सनेह रोड को जाने वाले मार्ग पर रविवार को वाहनों का लंबा जाम लगा रहा। आमजन को घंटों खड़े रहकर जाम खुलने का इंतजार करना पड़ा। दरअसल, सनेह मार्ग पर मंदिर दर्शन को पहुंचे वाले श्रद्धालु अपने वाहनों को बेतरतीब तरीके से खड़ा कर गए थे, जिससे पूरे दिन व्यवस्था बेपटरी बनी रही। बावजूद इसके पुलिस का पूरा ध्यान केवल राष्ट्रीय राजमार्ग पर ही टिका हुआ था।

रविवार को श्री सिद्धबली दर्शन को श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी हुई थी। अधिकांश श्रद्धालु अपने परिवार के साथ चार पहिया वाहनों से मंदिर दर्शन को पहुंच रहे थे। मंदिर के समीप दोनों पार्किंग स्थल भरने के बाद श्रद्धालु वाहनों को सनेह पुल में खड़े कर रहे थे। ऐसे में सिद्धबली पुल से सनेह मार्ग तक वाहनों का लंबा जाम लगा रहा। मार्ग के दोनों ओर पार्क वाहनों के कारण आमजन को पैदल चलने तक का रास्ता नहीं मिल पाया। कुछ देर वाहन रेंग-रेंग कर चल रहे थे। फिर लंबा जाम लग रहा था। पूरे दिन बेपटरी हुई व्यवस्था को सुधारने के लिए पुलिस की यातायात टीम भी कहीं नजर नहीं आई। ऐसे में सबसे अधिक परेशान क्षेत्रीय जनता को उठानी पड़ी।

मंगलौर : शाम होते ही मंगलौर बाईपास पर लगा जाम, यात्री परेशान

राजमार्ग पर शाम होते ही जबरदस्त जाम लग गया। जाम में यात्री फंसे रहे। देर रात तक यही स्थिति बनी रही। वहीं रविवार को मंगलौर कस्बे में 18 टायर ट्रक राजमार्ग पर खराब हो गया। इसकी वजह से भी यहां पर यातायात प्रभावित रहा। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और क्रेन मंगवाकर ट्रक को हटवाया, तब कहीं जाकर यातायात सुचारू हो सका।

चारधाम यात्रा व ग्रीष्मकालीन अवकाश के चलते हरिद्वार एवं अन्य पर्यटक स्थलों पर भी बड़ी संख्या में यात्री पहुंच रहे हैं। रविवार को दिनभर तो यातायात सुचारू चलता रहा। लेकिन, शाम चार बजे के बाद से राजमार्ग पर यातायात का दबाव बढऩा शुरू हो गया। बाईपास पर कोर कालेज से लेकर मंगलौर तक वाहनों का रेला लगा रहा। स्नान आदि करने के बाद बड़ी संख्या में यात्री हरिद्वार से वापस अपने गंतव्य को लौट रहे हैं। जिसकी वजह से जाम लग रहा है। इस संबंध में पुलिस को सूचना दी गई। लेकिन, जाम नहीं खुल सका।

Edited By: Nirmala Bohra