जागरण संवाददाता, देहरादून: प्रबंधन पर कर्मचारियों की मांगों की अनदेखी करने का आरोप लगा पर्वतीय डिपो पर रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद के कर्मचारियों का धरना शुरू हो गया। कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि अगर 30 नवंबर तक उनकी मांगों पर कार्रवाई न हुई तो एक दिसंबर से डिपो में बेमियादी हड़ताल शुरू कर दी जाएगी। कर्मचारी संयुक्त परिषद के क्षेत्रीय अध्यक्ष मेजपाल सिंह समेत मंत्री राकेश पेटवाल के नेतृत्व में धरने पर बैठे कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि प्रबंधन उनकी मांगों व समस्या को गंभीरता से नहीं ले रहा।

डिपो एजीएम के साथ समस्या व मांगों को लेकर पिछले दिनों कई दफा वार्ता हुई और समझौता भी हुआ, लेकिन प्रबंधन ने कार्रवाई को कदम नहीं उठाया। पर्वतीय डिपो में 30 से ज्यादा बसें टायर और स्पेयर्स पार्ट्स के अभाव में कार्यशाला में खड़ी हैं। इससे पहाड़ के कई मार्गों पर बसें नहीं चल पा रही एवं यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ रही। रोजाना लाखों का नुकसान अलग हो रहा। संयुक्त परिषद ने खराब बसों को तत्काल ठीक करने समेत डिपो में टिकट मशीनों व लिपिकों की कमी दूर करने, डिपो में उपलब्ध सभी वाहनों को आंवटित चालकों के माध्यम से संचालित कराने, संविदा व विशेष श्रेणी के चालक व परिचालक को ड्यूटी आवंटन नहीं होने पर 250 किमी के हिसाब से भुगतान करने की भी मांग की। इस मौके पर शाखा अध्यक्ष कृष्णपाल सिंह, मंत्री नमन सिंह, सत्यपाल, विनोद नौटियाल, कलम सिंह और सोहन सिंह आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- Dehradun Traffic: तीन चौराहों पर कागजों में ही ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम, पढ़‍िए पूरी खबर

कोरोना वारियर शिक्षकों को किया सम्मानित

चकराता रोड स्थित जैक एंड जिल एकेडमी में शुक्रवार को कोरोना वारियर शिक्षकों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि सचिन जैन ने कार्यक्रम की शुरुआत की। मानवाधिकार एवं सामाजिक न्याय संगठन की प्रदेश अध्यक्ष मधु जैन ने बताया कि स्कूल की शिक्षक नैैंसी कौर, चंचल कोठियाल, शालिनी भारद्वाज, समीक्षा थपलियाल, मोहिनी कर्मियाल, प्रधानाचार्य संस्कृता मांगलिक को कोरोना वारियर प्रशस्ति पत्र दिया गया। इस अवसर पर अमित अरोड़ा, एसपी सिंह, जितेंद्र डंडोना आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- उत्‍तराखंड: शिक्षकों की आवासीय परेशानी दूर करने के लिए बनेगी कार्ययोजना, पढ़‍िए पूरी खबर

Edited By: Sumit Kumar