राज्य ब्यूरो, देहरादून। सरकार ने प्रदेश में 17 सितंबर को होने वाले टीकाकरण महा अभियान के लिए जिलों को जिम्मेदारियां सौंप दी हैं। अपने जिले में इस अभियान को सफल बनाने का जिम्मा जिलाधिकारी का होगा। राज्य में कोरोना रोकथाम के नियमों का अनुपालन कराने की जिम्मेदारी मंडलायुक्तों को सौंपी गई है। वे अपने स्तर पर जिलाध्यक्ष व पुलिस के साथ मिलकर इसकी कार्ययोजना बनाएंगे। वहीं, सरकार ने सितंबर अंत तक शत प्रतिशत व्यक्तियों को टीके की पहली डोज लगाने के भी निर्देश दिए हैं।

प्रदेश सरकार ने 17 सितंबर को प्रदेश के एक हजार स्थानों पर टीकाकरण करने का निर्णय लिया है। इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्री डा धन सिंह रावत ने स्वास्थ्य विभाग के साथ ही सभी जिलाधिकारियों व चिकित्साधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक की। उन्होंने कहा कि सभी जिलाधिकारी अपने जिलों में कम से कम 25 स्थानों पर टीकाकरण कैंप लगाएंगे। बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन व मजदूर बाहुल्य क्षेत्र में कैंप लगाकर आमजन को टीका लगाने के लिए प्रेरित किया जाएगा। उन्होंने अभियान को सफल बनाने के लिए आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्त्‍ताओं के साथ ही ग्राम स्तर पर जनप्रतिनिधियों का सहयोग लेने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य दिसंबर तक शत प्रतिशत टीकाकरण कराना है।

स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने कहा कि राज्य में कोरोना रोकथाम के लिए बनाए गए नियमों का शत प्रतिशत पालन कराना सुनिश्चित किया जाए। बैठक में सभी जिलाधिकारियों ने टीकाकरण और संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए की गई तैयारियों के बारे में जानकारी दी। बैठक में सचिव स्वास्थ्य डा पंकज पांडेय, मेडिकल विश्वविद्यालय के कुलपति डा हेमचंद्र, महानिदेशक स्वास्थ्य तृप्ति बहुगुणा व निदेशक सरोज नैथानी आदि उपस्थित थे।

अब घूम-घूमकर लगाया जा रहा टीका

दून में कोविड-टीकाकरणका ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। जिले में अब तक 97.31 फीसद आबादी (लक्षित) को वैक्सीन की प्रथम खुराक लग चुकी है। अभियान में और तेजी लाने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम अब लक्ष्य आधारित टीकाकरण कर रही है। जिसके तहत मजदूर, फल-सब्जी विक्रेता, लघु व्यापारी आदि का टीकाकरण किया जा रहा है। मोबाइल टीम की मदद से इन्हें टीका लगाया जा रहा है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. दिनेश चौहान ने बताया कि टीकाकरण अभियान को गति देने के लिए मोबाइल टीम लगाई गई हैं। जिनमें एंबुलेंस, आटो आदि की मदद ली गई है। जिनमें डाक्टर व स्टाफ तैनात हैं। ये मोबाइल टीम अल सुबह उन क्षेत्रों में तैनात रहती है।

यह भी पढ़ें:- Uttarakhand Coronavirus Update: तीन जिलों में शून्य, सात जिलों में एक-एक मामला; संक्रमण दर 0.10 फीसद

Edited By: Sunil Negi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट