जागरण संवाददाता, ऋषिकेश:

चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं की संख्या अत्यधिक बढ़ जाने और धामों में दर्शन के लिए स्लाट उपलब्ध न होने के कारण पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर के आदेश पर सात दिन के लिए सिर्फ ऋषिकेश में आफलाइन पंजीकरण व्यवस्था लागू की गई है। इस कार्य की जिम्मेदारी एसडीआरएफ को सौंपी गई है। यात्रियों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए बस टर्मिनल कंपाउंड में स्थित पंजीकरण केंद्र में आठ काउंटर खोल दिए गए हैं। एसडीआरएफ की ओर से प्रतिदिन दो हजार श्रद्धालुओं का पंजीकरण किया जा रहा है।

उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद की ओर से जारी वेबसाइट में चारधाम के लिए आनलाइन और आफलाइन पंजीकरण किए जा रहे थे। जिसमें दर्शन के लिए स्लाट की व्यवस्था की गई थी। इस व्यवस्था के कारण श्रद्धालुओं को दर्शन की लंबी तिथि मिल रही थी। चार दिन पूर्व पर्यटन सचिव के आदेश पर सभी भी आफलाइन पंजीकरण केंद्रों को बंद कर दिया गया था। उसके अगले रोज सिर्फ एक सप्ताह के लिए ऋषिकेश सहित भद्रकाली और ब्रह्मपुरी चेक पोस्ट पर आफलाइन पंजीकरण की सुविधा शुरू की गई है। इसके लिए एसडीआरएफ को अलग से कोटा जारी किया गया है। पंजीयन का कार्य एसडीआरएफ की टीम कर रही है। बीते शनिवार तक पंजीकरण केंद्र ऋषिकेश में सिर्फ चार काउंटर खोले गए थे। रविवार को यात्रियों की अत्यधिक भीड़ बढ़ जाने के कारण आठ काउंटर खोल दिए गए हैं।

एसडीआरएफ टीम के उप निरीक्षक कविद्र सिंह सजवाण ने बताया कि सभी काउंटर में प्रतिदिन 2000 आफलाइन पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। एथिक्स इन्फोटेक कंपनी की टीम इस कार्य में मदद कर रही है। रविवार को सभी काउंटर में जितने भी श्रद्धालु नजर आए वह शनिवार औऱ रविवार को यहां पहुंचे हैं।

Edited By: Jagran