जागरण संवाददाता, देहरादून : Raksha Bandhan 2022 : रक्षाबंधन पर सैकड़ों भाई-बहन करीब कई घंटे देहरादून-दिल्ली हाईवे पर जाम में फंसे रहे। मोहंड में संकरी पुलिया के चलते हाईवे पैक हो गया। वाहन रेंगकर चलते रहे जबकि उत्तर प्रदेश पुलिस नदारद रही।

दोपहर में हालात सबसे ज्यादा बुरे

जाम (Traffic Jam in Dehradun) में सैलानियों के निजी वाहन, रोडवेज बसें, टैक्सी और ट्रक समेत सैकड़ों की संख्या में दोनों ओर कई किमी तक फंसे रहे। दोपहर में हालात सबसे ज्यादा बुरे रहे।

सूचना पर उत्तराखंड पुलिस के जवान वहां पहुंचे तब यातायात सुचारू करने की कसरत शुरू हो सकी। रात आठ बजे के करीब जाम कुछ कम हुआ और वाहन सुचारू चले।

गुरुवार को रक्षाबंधन (Raksha Bandhan 2022) की वजह से हाईवे पर वाहनों की संख्या आम दिनों की अपेक्षा कई गुना ज्यादा रही। इसी दौरान मोहंड की संकरी पुलिया ने वाहनों के पहिये को थाम लिया।

दरअसल, वहां वाहनों को वन-वे सिस्टम की तर्ज पर कुछ-कुछ देर रोककर निकाला जा रहा था। इस कारण जाम और विकराल हो गया और हाईवे पर दोनों तरफ वाहनों की कई किमी लंबी कतारें लग गईं। दोपहर करीब एक बजे से रात करीब आठ बजे तक हाईवे पैक रहा।

पुलिस को जाम खुलवाने में लग गए तीन घंटे

जाम में सैकड़ों महिलाएं व पुरुष ऐसे भी थे, जो रक्षाबंधन पर भाइयों और बहनों के घर जा रहे थे। दर्जनों रोडवेज बसें भी फंसी रहीं। सूचना पर शाम करीब चार बजे जब क्लेमेनटाउन पुलिस ने वहां पहुंच यातायात को सुचारू कराने की कोशिश की तो धीरे-धीरे वाहनों का निकलना शुरू हुआ।

हाईवे पर वाहनों के आड़े-तिरछे खड़े होने के कारण पुलिस को जाम (Traffic Jam in Dehradun) खुलवाने में करीब तीन घंटे लग गए। भीषण उमस की वजह से पर्यटकों को खासी परेशानी झेलनी पड़ी। रोडवेज बसों के जाम में फंसने से आइएसबीटी पर वह लोग भी परेशान रहे, जो अपने रिश्तेदारों या परिचितों को लेने पहुंचे थे।

वहीं, कई लोग जाम में बसों से उतरकर पैदल ही निकल पड़े। वहीं, जाम की वजह से आटो वालों ने जमकर चांदी काटी। आशारोड़ी से आटो वालों ने यात्रियों को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए मुंहमांगे रुपये मांगे।

आइएसबीटी पर बसों को लेकर रही मारामारी

रक्षाबंधन (Raksha Bandhan 2022) पर उमड़ी यात्रियों की भीड़ ने परिवहन निगम (Uttarakhand Transport Corporation) के हाथ-पांव फूला दिए। सुबह से दून आइएसबीटी (ISBT Dehradun) पर रोडवेज बसों में चढऩे को लेकर मारामारी मची रही और बसें कम पड़ गईं।

सर्वाधिक मारामारी मेरठ, दिल्ली, सहारनपुर, हरिद्वार और ऋषिकेश मार्ग पर जाने वाली बसों में रही। रोडवेज की अतिरिक्त बसें लगाई गईं लेकिन दोपहर बाद यात्रियों की संख्या भी उसी हिसाब से बढ़ने लगी। इस बीच, उप्र ने भी अतिरिक्त बसें दून भेजी।

इसके बाद हालात कुछ सामान्य हो सके। दिल्ली रूट पर रात तक यात्री बसों के इंतजार में फंसे रहे। उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, हरियाणा समेत पंजाब और हिमाचल रोडवेज की बसों में यात्रियों का बुरा हाल रहा।

शाम को सभी राज्यों ने बसों की अतिरिक्त व्यवस्था की थी मगर ये भी कम पड़ गई। रक्षाबंधन पर ट्रेनों में भी मारामारी रही। इलाहाबाद जाने के लिए रवाना हुई लिंक एक्सप्रेस में पांव रखने तक की जगह नहीं मिली।

Edited By: Nirmala Bohra