जागरण संवाददाता, देहरादून: Raksha Bandhan 2022 दून के जनजातीय बच्चों ने दिल्ली में राष्ट्रपति के साथ रक्षाबंधन पर्व मनाया। दून संस्कृति विद्यालय के बच्चों ने राष्ट्रपति भवन पहुंचकर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु को राखी बांधी। बच्चों का दल पूर्व राज्यसभा सदस्य तरुण विजय और विद्यालय की प्रधानाचार्य वंदना बिष्ट के नेतृत्व में दिल्ली गया। यह रक्षाबंधन दून के जनजातीय बच्चों के लिए उल्लास के साथ गौरव का क्षण लेकर आया।

15 बच्चों को प्राप्त हुआ राष्ट्रपति को राखियां बांधने का गौरव

गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में देहरादून के जनजातीय दून संस्कृति विद्यालय के 15 बच्चों को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु को राखियां बांधने का गौरव प्राप्त हुआ। आइटीआइटीआइ दून संस्कृति विद्यालय का उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने वर्ष 2004 में किया था।

  • यहां दून समेत तमाम जनपदों के जनजातीय बच्चों को शिक्षा प्रदान की जाती है।
  • इस रक्षाबंधन पर यहां के बच्चों को राष्ट्रपति भवन में आमंत्रित किया गया।
  • इस अवसर पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने बच्चों को अत्यंत स्नेह कर राखियां बंधवाईं।

तरुण विजय ने राष्ट्रपति का आभार व्यक्त किया

उन्होंने बच्चों को उपहार भी प्रदान दिए। उन्होंने कहा अब राखी का पर्व भाई-बहन से बढ़कर सर्व समाज में प्रेम और भाईचारे का प्रतीक बन गया है। पूर्व राज्यसभा सदस्य तरुण विजय ने राष्ट्रपति का आभार व्यक्त किया।

उन्होंने कहा कि रक्षाबंधन के दिन देहरादून के जनजाति बच्चों को राष्ट्रपति भवन आने का निमंत्रण पूरे प्रदेश और देश के जनजातीय बच्चों के लिए सम्मान की बात है। उनको एक जनजातीय महिला राष्ट्रपति को राखी बांधने और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने का सौभाग्य मिला।

भाजपा की महिला कार्यकर्त्ताओं ने जवानों को बांधी राखी

भाजपा महानगर महिला मोर्चा की ओर से बीरपुर में रक्षाबंधन मनाया गया। महिला कार्यकर्त्ताओं ने सेना के जवानों को रक्षासूत्र बांधे। साथ ही वीर जवानों की दीर्घायु की कामना की। गुरुवार को महानगर महिला मोर्चा अध्यक्ष कमली भट्ट के नेतृत्व में संयोजक ज्योति कोटिया की टीम के साथ बीरपुर में कार्यक्रम आयोजित किया गया।

महिलाओं ने वीर सैनिकों के माथे पर तिलक लगाकर उनकी कलाई पर राखी बांधी। कमली भट्ट ने कहा कि राखी का पर्व पर बहनें अपने भाई को राखी बांधती हैं, लेकिन देश के जवान सीमा पर खड़े होते हैं तो उनकी बहन के लिए राखी बांधना संभव नहीं हो पाता।

ऐसे में हम सबकी जिम्मेदारी है कि आसपास रह रहे जवानों को राखी बांधें। इस अवसर पर महानगर उपाध्यक्ष संध्या थापा, निर्मला थापा, गीता पुरोहित, कल्पना गुरु, मीरा थापा, सारिका खत्री आदि उपस्थित रहीं।

Edited By: Sunil Negi