देहरादून, [जेएनएन]: आखिरकार मौसम विभाग का पूर्वानुमान सही साबित हुआ और उत्तराखंड पर मौसम मेहरबान हो गया। मसूरी में हल्के हिमपात के साथ ही आसपास के इलाकों में अच्छी बर्फबारी हुई। वहीं नैनीताल में भी हिमपात के आसार नजर आ रहे हैं। बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के अलावा पिथौरागढ़ में कैलास मानसरोवर मार्ग भी हिम चादर के आगोश में है। पहाड़ से लेकर मैदान तक हल्की बारिश का सिलसिला जारी है। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार अगले चौबीस घंटे में मौसम का मिजाज नरम पड़ जाएगा।

मौसम का मिजाज रविवार शाम से ही बदलने लगा था। उच्च हिमालय में बर्फबारी के साथ ही प्रदेश के कई हिस्सों में बूंदाबांदी भी शुरू हो गई थी, लेकिन सोमवार सुबह मौसम पूरे रंग में दिखा। इस सीजन में मसूरी में दूसरी बार हिमपात से सैलानियों के साथ ही व्यवसायियों के चेहरे खिल उठे। हालांकि शहरी क्षेत्र में बर्फ ज्यादा देर नहीं टिक पाई, लेकिन सुरकंडा, धनोल्टी, नागटिब्बा और बुरांशखंड बर्फ से सफेद हो गई हैं।

वहीं, चमोली में औली में हुई बर्फबारी का पर्यटकों ने जमकर लुत्फ उठाया। देहरादून जिले के चकराता में भी भारी हिमपात के समाचार हैं तो चमोली के औली में हिमपात से पर्यटकों के चेहरे खिल गए हैं। गढ़वाल और कुमाऊं मंडलों में हल्की बारिश का दौर जारी है। इससे तापमान में काफी गिरावट दर्ज की गई। न्यूनतम तापमान में औसतन चार से पांच डिग्री सेल्सियस की कमी आई है।

किसानों और बागवानों ने ली राहत की सांस

प्रदेश में लंबे समय से शुष्क मौसम का असर गेहूं की फसल पर पड़ रहा था। कृषि और राजस्व विभाग के प्रारंभिक सर्वेक्षण के अनुसार सात जिलों में गेहूं की फसल को 10 से 30 फीसद का नुकसान हुआ है। अब बारिश होने से किसानों के चेहरे पर रौनक लौट आई है। वहीं सेब उत्पादकों की उम्मीदें भी परवान चढऩे लगी हैं। बर्फबारी से उम्मीद जताई जा रही है कि इससे सेब के लिए जरूरी चिलिंग प्वाइंट भी मिल जाएगा।

स्कूली बस पर गिरी आसमानी बिजली

देहरादून के निकट एक स्कूली बस पर सुबह आसमानी बिजली गिरने से हड़कंप मच गया। हालांकि बस में बैठे सभी 11 बच्चे सुरक्षित रहे। श्री गुरु रामराय पब्लिक स्कूल की यह बस बच्चों को लेकर स्कूल जा रही थी। 

 

Posted By: Bhanu