जागरण संवाददाता, ऋषिकेश: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में साइंटिफिक रिसर्च, लीडरशिप इन हेल्थ केयर और पेशेंट सेफ्टी विषय पर तीन दिवसीय कार्यशाला के दूसरे दिन विशेषज्ञों ने प्रतिभागियों को लीडरशिप इन हेल्थ केयर विषय पर व्याख्यान दिया। जिसमें उन्होंने प्रतिभागियों को लीडरशिप की चुनौतियां, बदलाव, टीम बि¨ल्डग आदि के बारे में बताया।

संस्थान के मेडिकल एजुकेशन विभाग की ओर से आयोजित कार्यशाला में सोमवार को एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रविकांत ने कहा कि संस्थान कनिष्ठ चिकित्सकों व छात्र-छात्राओं में लीडरशिप क्वालिटी की पहचान और उसे विकसित करने के साथ ही प्रोत्साहित करने की दिशा में कार्य करेगा। जिससे हेल्थ सिस्टम में रचनात्मक बदलाव से रोगियों को लाभ मिल सके। निदेशक प्रोफेसर रवि कांत ने कहा कि हम ऋषिकेश एम्स में देश-दुनिया में उपलब्ध विश्व स्तरीय आधुनिकतम स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने को प्रयासरत हैं, जिससे आम जनता लाभान्वित हो सके। उन्होंने कहा कि यदि रोगी उपचार के लिए अस्पताल आने में अक्षम है, तो उसे घर पर स्वास्थ्य सुविधा मिल सके, ऐसा सिस्टम बनाने का प्रयास जल्द ही किया जाएगा। कार्यशाला में यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ वेल्स, यूके के प्रोफेसर पराग ¨सघल व बहरीन मेडिकल यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर देवेंद्र संधू ने प्रतिभागियों को हेल्थ केयर के क्षेत्र में लीडरशिप के सिद्धांत बताए। इस दौरान उन्होंने हेल्थ केयर में लीडरशिप के तौर तरीकों व चुनौतियों से अवगत कराया। यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ वेल्स के प्रोफेसर केशव ¨सघल व प्रोफेसर मार्टिन ने चिकित्सा के क्षेत्र में चेंज बदलाव विषय पर व्याख्यान दिया। प्रोफेसर तामोरिस ओले ने टीम बि¨ल्डग विषय पर व्याख्यान दिया। जिसमें उन्होंने प्रतिभागियों को बेहतर प्रदर्शन करने वाली टीम के गठन की जानकारी दी। इस अवसर पर मेडिकल एजुकेशन विभागाध्यक्ष डॉ. शालिनी राव, डीन प्रोफेसर सुरेखा किशोर, प्रोफेसर वीना रवि, नर्सिंग कॉलेज के ¨प्रसिपल डॉ. सुरेश शर्मा, प्रो. शालिनी राव, प्रो. सोमप्रकाश बासू, डॉ. रविकांत, डॉ. प्रतिमा गुप्ता, डॉ. तरुण गोयल, डॉ. राजेश काथरोटिया, डॉ. सुपर्णा बासू आदि मौजूद रहे।

विदेशी प्रोफेसर हुए सम्मानित

कार्यशाला में शामिल हो रहे विदेशी प्रोफेसरों को संस्थान की ओर से एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रविकांत ने स्मृति चिह्न व अंगवस्त्र भेंट कर सम्मानित किया। सम्मानित होने वालों में यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ वेल्स, यूके के प्रोफेसर मार्टिन स्टीगल, प्रो.जॉयस कैंकरे, बहरीन मेडिकल यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर दवेंद्र संधू, प्रो. केशव ¨सघल, प्रोफेसर तामोरिस कोले आदि शामिल रहे।

Posted By: Jagran