जागरण संवाददाता, देहरादून: दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में व्यवस्थाएं एक बार फिर वेंटीलेटर पर हैं। हद ये कि अस्पताल में रुई और स्पंज तक खत्म है। जिस कारण ऑपरेशन के लिए मरीजों को यह सामान बाहर से लाकर देना पड़ रहा है। मध्यमवर्गीय तो चलिए फिर भी व्यवस्था कर लें, लेकिन निम्न वर्ग के लोगों को बहुत ज्यादा दिक्कत उठानी पड़ रही है। दून अस्पताल को जब से मेडिकल कॉलेज में तब्दील किया गया, यहां जब तब कोई न कोई समस्या आती रही है। कभी दवा की कमी, कभी कोई जांच बंद होने और कभी मशीनें खराब होने से मरीज परेशान रहते हैं। उन्हें अपनी बीमारी के साथ-साथ यहां व्यवस्था के भी मर्ज से जूझना पड़ता है। अब दिक्कत रुई और स्पंज खत्म होने से है। इन दोनों का ही इस्तेमाल ऑपरेशन के वक्त होता है। सामान वक्त पर नहीं मंगाया गया और अब मरीजों को खुद सामान खरीदकर लाना पड़ रहा है। जो इसे खरीद पाने में सक्षम नहीं है उन्हें ऑपरेशन की आगे की तारीख दी जा रही है। सीटी स्कैन एक सप्ताह के लिए ठप अगर आप दून अस्पताल में सीटी स्कैन कराने की सोच रहे हैं तो इरादा बदल दीजिए। अस्पताल में सीटी स्कैन अभी करीब एक सप्ताह तक नहीं होगा। बुधवार को मशीन खराब हो गई थी। मैकेनिकों को अंदेशा था कि सॉफ्टवेयर में दिक्कत होगी, जिसे रिस्टार्ट कर ठीक कर लिया जाएगा। लेकिन पता चला कि इसकी टयूब उड़ गई है। अब नई ट्यूब डालने में एक हफ्ते का समय लगेगा। दून अस्पताल में हर दिन 30 से 35 सीटी स्कैन होते हैं। ऐसे में मरीजों को दिक्कत होना लाजिमी है। खासकर बीपीएल व एमएसबीवाई कार्डधारकों को ज्यादा मुश्किल होगी। क्योंकि उनका सीटी स्कैन निश्शुल्क होता है। इसके अलावा उन मरीजों के लिए भी दिक्कत है जो अस्पताल में भर्ती हैं। उन्हें जरूरत पड़ने पर बाहर निजी सेंटर पर ले जाना पड़ेगा।