चकराता (देहरादून), जेएनएन। श्री गुलाब सिंह राजकीय महाविद्यालय चकराता के प्राचार्य प्रोफेसर केएल तलवाड़ ने हिंदी के यूजी व पीजी षष्टम सेमेस्टर के छात्र-छात्रओं की सुविधा को बहुविकल्पीय प्रश्नों की पुस्तक तैयार की है। प्राचार्य ने यह पुस्तक महाविद्यालय में हिंदी प्रध्यापक की कमी व दूरस्थ क्षेत्रों में कनेक्टिविटी की समस्या को देखते हुए तैयार कराई। महाविद्यालय के छात्र-छात्रओं को पुस्तक निश्शुल्क दी जाएगी।

देहरादून जिले के जौनसार-बावर के चकराता स्थित श्री गुलाब सिंह राजकीय महाविद्यालय पुरोड़ी में पिछले काफी समय से हिंदी विषय के प्राध्यापक का पद खाली चल रहा है। प्राध्यापक की कमी व कोरोना महामारी के चलते प्राचार्य प्रोफेसर केएल तलवाड़ ने इसका हल के रूप में स्वयं लेखन कार्य शुरू किया। कोरोनाकाल में विशेषकर पहाड़ के दूरस्थ इलाकों में रह रहे सैकड़ों ग्रामीण छात्र-छात्रओं की समस्या देख प्राचार्य प्रोफेसर केएल तलवाड़ ने विद्यार्थियों के लिए हिंदी विषय के बहुविकल्पीय प्रश्नों की पुस्तक निकाली।

प्राचार्य ने कहा पहाड़ में कनेक्टिविटी की बड़ी समस्या है। जिससे ऑनलाइन पढ़ाई में बाधा आ रही है। इसको देखते हुए हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय गढ़वाल विश्वविद्यालय के बीए षष्टम सेमेस्टर के हिंदी विषय के विद्यार्थियों के लिए तीन प्रश्नपत्रों प्रयोजनमूलक हिन्दी, अनुवाद विज्ञान व सृजनात्मक लेखन के विविध क्षेत्र की पाठ्यक्रमानुसार शिक्षण सामग्री संकलित की गई है। 

यह भी पढ़ें: युवाओं को हस्तशिल्प का प्रशिक्षण देकर राजेंद्र ने तैयार किया मजबूत आर्थिकी का आधार

प्राचार्य ने कहा गढ़वाल विश्वविद्यालय के यूजी व पीजी फाइनल सेमेस्टर की परीक्षा बहुविकल्पीय प्रश्नों के आधार पर ओएमआर शीट पर होगी। उनके लेखन से विद्यार्थियों के लिए निकाली गई यह पुस्तक आने वाली परीक्षा में काफी मददगार साबित होगी। हिंदी विषय की जानकार व पूर्व संयुक्त निदेशक उच्चशिक्षा उत्तराखंड व सेवानिवृत्त प्रोफेसर सविता मोहन ने शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय योगदान के लिए चकराता के प्राचार्य केएल तलवाड़ के प्रयासों को सराहा। प्राचार्य ने बहुविकल्पीय प्रश्नों की इस पुस्तक को निश्शुल्क विद्यार्थियों को भेजने की व्यवस्था की है।

यह भी पढ़ें: गांव लौटे प्रवासियों ने पेश की मिसाल, बना दी ढाई किमी लंबी सड़क

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021