देहरादून, जेएनएन। कोरोना को देखते हुए तहसील प्रशासन जल्द ही डिग्री कॉलेज डाकपत्थर को आइसोलेशन सेंटर बना सकता है। इसके मद्देनजर तहसीलदार ने कॉलेज का मौका मुआयना कर व्यवस्थाएं जांची। उन्होंने इस संबंध में रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेजी है। 

इसके अलावा प्रशासन अन्य स्थानों को भी देख रहा है, जहां पर आइसोलेशन सेंटर बनाए जा सकते हैं। उधर, उप जिला चिकित्सालय में फ्लू ओपीडी तो बंद रही, लेकिन इमरजेंसी सेवा व चिकित्सकों की मोबाइल टीम सक्रिय रही।

तहसील प्रशासन ने कोरोना वायरस को देखते हुए आगे की तैयारी भी करनी शुरू कर दी है। हर उस स्थान को देखा जा रहा है, जहां पर जरूरत पड़ने पर आइसोलेशन सेंटर बनाए जा सकें। तहसीलदार आकांक्षा वर्मा ने बताया कि डिग्री कॉलेज में जगह काफी है, साथ ही बिजली व पानी की पर्याप्त सुविधा है। यहां सौ बेड की व्यवस्था कराई जा सकती है। 

उन्होंने कहा कि विदेश से आए लोगों पर निगरानी के लिए भी चार सदस्यीय टीम बनाई गई है। जिनका काम यह है कि वे ग्राम प्रधान द्वारा दी गयी सूचना पर गांव में जा रहे हैं और होम क्वारंटाइन किए गए लोगों पर नजर रखने को आसपास के लोगों को भी जागरूक किया जा रहा है। वहीं, उप जिला चिकित्सालय के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. केके शर्मा ने बताया कि अभी तक विदेश से आए 40 लोगों को होम क्वारंटाइन किया जा चुका है।

सेवा में जुटे स्वयंसेवी खुद भी रहें जागरूक

स्थानीय प्रशासन ने जरूरतमंद लोगों की सहायता में जुटे समाजसेवियों व राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं को विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी है। प्रशासन ने उन्हें संक्रमण से बचाव के लिए जारी की गयी सरकार की एडवाइजरी पर अमल करने को कहा है। तहसीलदार विकासनगर आकांक्षा वर्मा का कहना है कि सहायता अभियान के तहत उचित दूरी, मास्क, हैंडवाश जैसी सावधानी का सभी लोग ख्याल रखें।

इसके अलावा पुलिस, स्थानीय प्रशासन भी ऐसे लोगों को राहत पहुंचा रहा है। यदि सामाजिक संस्थाएं व अन्य तमाम ऐसे लोग जो राहत सामग्री वितरित कर रहे हैं वे पुलिस व प्रशासन के साथ समन्वय बनाकर काम करें तो इसका लाभ अधिक लोगों को मिल सकता है। 

काली मिर्च, दालचीनी व अदरक का करें इस्तेमाल

इंटीग्रेटेड मेडिकल प्रेक्टिशनर्स एसोसिएशन ने लोगों को कोरोना वायरस से बचाव के टिप्स दिए हैं। कहा कि चाय में काली मिर्च, तुलसी, दालचीनी व अदरक का इस्तेमाल करने पर प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होगा। 

एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. एमएल सोनी, संरक्षक डॉ. एएस वर्मा, कोषाध्यक्ष डॉ. डीसी आचार्य, सचिव डॉ. विजय कुमार ने कहा कि पानी उबला हुआ पीएं, गर्म पानी में नमक डालकर गरारे करते रहें। रात को सोते समय आधा चम्मच हल्दी पानी या दूध के साथ लें। सार्वजनिक स्थल पर बैठकर खाना न खाएं, फास्ट फूड से दूरी बना लें। एसोसिएशन से जुड़े चिकित्सकों ने कहा कि सावधानी बरतेंगे तो वायरस से बचा जा सकता है।

पंचायत स्तर से किए गए प्रयास

केदारावाला पंचायत में सोडियम हाइपोक्लोराइट व ब्लीचिंग पाउडर कीटनाशक का छिड़काव कराया गया। मस्जिदों से एनाउंसमेंट कराकर ग्रामीणों को लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन कराया गया। ग्राम पंचायत में जरूरी आवश्यक सेवाओं, परचून की दुकान, फल सब्जी, मेडिकल आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की गयी। 

यह भी पढ़ें: पिथौरागढ़ और हरिद्वार जिलों को केंद्र ने दी मेडिकल कॉलेजों की सौगात

ग्राम प्रधान तबस्सुम ने बताया कि जरूरी सामानों की रेट लिस्ट चस्पा कराई गयी है। जो बाहरी प्रदेशों के 15 मजदूर फंसे हैं, उनकी सूचना उच्च अधिकारियों को देकर उन्हें खाने पीने का सामान उपलब्ध कराया गया है। ग्राम पंचायत में लॉकडाउन की वजह से रोजी रोटी के संकट से गुजार रहे 30 परिवारों को भी खाने पीने का सामान उपलब्ध कराया गया है। इसके अलावा ग्राम पंचायत में सऊदी अरब से उमरा करके आये व्यक्तियों की डाक्टरों द्वारा निगरानी की जा रही है। बाहर से आने वालों की सूचना तुरंत प्रशासन को दी जा रही है।

यह भी पढ़ें: Coronavirus: उत्तराखंड में चिकित्सकों के 572 पदों को भरने की तैयारी शुरू

Posted By: Bhanu Prakash Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस