जागरण संवाददाता, देहरादून। गुरु तेग बहादुर का 400वां प्रकाश पर्व सादगी के साथ मनाया जाएगा। देहरादून की सभी गुरुद्वारा समितियों ने गुरमत समागम, कथा, प्रार्थना समेत अन्य सभी कार्यक्रम रद करने का फैसला लिया है। लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के चलते यह फैसला लिया गया है। गुरुद्वारा समितियों ने सभी श्रद्धालुओं से घर पर ही प्रकाश पर्व मनाने की अपील की है।

बुधवार को रेसकोर्स स्थित गुरुद्वारा में दून के सभी गुरुद्वारा और सामाजिक संस्थाओं की बैठक हुई। जिसमें कोरोना के बढ़ते संक्रमण पर मंथन हुआ। बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि श्री गुरु तेग बहादुर के पावन प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में 25 अप्रैल से दो मई तक विभिन्न गुरुद्वारा में होने जा रहे गुरमत समागम, कथा विचार, गुरमत सेमिनार आदि कार्यक्रम रद कर दिए जाएंगे। 

बैठक की अध्यक्षता कर रहे हरचरण सिंह चन्नी ने बताया कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए यह निर्णय लिया गया है। हालांकि, एक मई को प्रकाश पर्व वाले दिन संगत अपने क्षेत्र में सूक्ष्म रूप से कार्यक्रम आयोजित करेंगी। 25 अप्रैल से दो मई तक गुरुद्वारा एवं घरों में दीपमाला भी की जाएगी। बताया कि श्री गुरु तेग बहादुर के प्रकाश पर्व पर निकलने वाला नगर कीर्तन भी नहीं निकाला जाएगा। 

बैठक में बलबीर सिंह साहनी, हेड ग्रंथी भाई जसप्रीत सिंह, हरमोहिंदर सिंह, जसपाल सिंह, जगजीत सिंह, मनमोहन सिंह, देविंदर सिंह आनंद, सुरिंदर सिंह खालसा, अवतार सिंह, हरभजन सिंह आनंद, संतोख सिंह, सतपाल सिंह, अवतार सिंह, सेवा सिंह मठारू आदि उपस्थित थे। 

यह भी पढ़ें- कैलास भूक्षेत्र की चुनौतियों को आसान करेगा यूनेस्को, इन अंतरराष्ट्रीय संधियों के तहत होगा संरक्षण

 

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप