देहरादून, जेएनएन। पूर्व भारतीय क्रिकेटर मनोज प्रभाकर ने कहा कि बीसीसीआइ की मान्यता के लिए उत्तराखंड सही मायने में हकदार है और उन्हें उम्मीद है कि उत्तराखंड को जल्द ही मान्यता मिल जाएगी। वहीं, प्रभाकर ने मान्यता के लिए उत्तराखंड की तीनों एसोसिएशन को एकजुट होने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि यह वक्त निजी हितों को किनारे रख हजारों युवाओं के भविष्य के बारे में सोचने का है। मनोज प्रभाकर ने ये बातें शनिवार को देहरादून के रेंजर्स मैदान में एक क्रिकेट कैंप में कहीं।

मनोज प्रभाकर ने कहा कि उत्तराखंड से उनका खास रिश्ता है। नैनीताल में उनका घर है, इसलिए वह यहां आते-जाते रहते हैं। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के युवा क्रिकेटर गजब के एथलीट हैं। इन युवाओं को दौड़ते हुए देखना खास अनुभव है, जो दिल्ली जैसे बड़े राज्यों में देखने को नहीं मिलता। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड टीम को पहली बार घरेलू क्रिकेट खेलने का अवसर मिला और टीम के खिलाड़ियों ने अपनी प्रतिभा का परिचय दिया। इससे साफ है कि उत्तराखंड में प्रतिभाओं की कमी नहीं है, जरूरत है तो उन्हें अवसर देने की।

एसोसिएशन से जुड़ने की जताई इच्छा

मनोज प्रभाकर ने कहा कि वह उत्तराखंड से जुड़े हैं। इसलिए यहां के युवाओं की चिंता करते हैं। उन्होंने कहा कि यदि उन्हें एसोसिएशन में जिम्मेदारी मिलती है तो यह उनका सौभाग्य होगा।

यह भी पढ़ें: राव ऐकेडमी और एनएससी ने मुकाबले जीतकर अगले दौर में किया प्रवेश

यह भी पढ़ें: देहरादून रेड ने पौड़ी को 121 रन से हराकर अगले दौर में किया प्रवेश

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस