देहरादून, राज्य ब्यूरो। अगले महीने हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव के प्रचार अभियान में शामिल होने जा रहे उत्तराखंड के वरिष्ठ भाजपा नेताओं की सूची में एक नया नाम जुड़ने  से सियासी गलियारों में हलचल है। हरियाणा जाने वाले दल का संयोजक बीस सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष नरेश बंसल को बनाया गया है, लेकिन अब इसमें एक नाम, संजय जोड़ा गया है, जिसे लेकर पार्टी में हलचल महसूस की जा रही है।

प्रदेश भाजपा ने गत 20 सितंबर को मीडिया को जारी एक विज्ञप्ति में हरियाणा जाने वाले पार्टी नेताओं के नामों की जानकारी दी थी। इस दल का संयोजक नरेश बंसल को बनाया गया, जबकि सुरेश जोशी, ओमप्रकाश जमदग्नि, कैलाश पंत, विश्वास डाबर, पुष्कर सिंह धामी, सचिन गुप्ता, रिपुदमन सिंह रावत, घनश्याम नौटियाल, ऋषिराज डबराल, संजीव वर्मा, मनोज कुमार और विनोद सुयाल भी इसमें शामिल हैं। 

मंगलवार शाम सोशल मीडिया में एक सूची तेजी से वायरल हुई, जिसमें एक नया नाम संजय जुड़ा नजर आ रहा है। दिलचस्प बात यह कि पार्टी की ओर से इस संबंध में मीडिया को कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई। इसे लेकर तमाम चर्चाएं शुरू हो गईं। 

गौरतलब है कि संजय कुमार उत्तराखंड भाजपा के पूर्व प्रदेश महामंत्री संगठन रहे हैं। जिन्हें एक महिला द्वारा लगाए गए उत्पीडऩ के आरोप के बाद पद से हटना पड़ा। भाजपा की सूची में एक नया नाम जुड़ने के बाद कयास लगाए जाने लगे कि यह नाम इन्हीं संजय कुमार का है। दरअसल, सूची में संजय नाम के नेता का एक फोन नंबर भी दिया गया है, जो उन्हीं का बताया जा रहा है।

हालांकि नाम न छापने की शर्त पर पार्टी के एक वरिष्ठ नेता का कहना था कि ऐसा त्रुटिवश हुआ है। हरियाणा की पार्टी इकाई के पास संभवतया पुरानी जानकारी थी, जिसके आधार पर प्रदेश महामंत्री संगठन के नाते संजय कुमार का नाम हरियाणा की सूची में शामिल कर दिया गया। 

यह भी पढ़ें: पंचायत चुनावः कांग्रेस का निर्दलीयों पर दांव, दो जिलों में 38 प्रत्याशियों को समर्थन

अब संजय कुमार के स्थान पर प्रदेश महामंत्री संगठन का पद अजय कुमार संभाल चुके हैं। इस संबंध में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट से तो संपर्क नहीं हो पाया लेकिन नरेश बंसल ने कोई नया नाम जुड़ने  की जानकारी से साफ इन्कार किया। उन्होंने कहा कि वह स्वयं फरीदाबाद पहुंच चुके हैं और संजय नाम का कोई व्यक्ति दल में शामिल नहीं है। इस सबके बावजूद पार्टी नेताओं के बीच इस मामले को लेकर खासी हलचल जरूर महसूस की जा रही है।

यह भी पढ़ें: भाजपा के सामने अब छोटी सरकार में छाने की बड़ी चुनौती

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप