देहरादून, जेएनएन। कोरोना संकट के बीच शराब की दुकानों को खोलने की अनुमति देने और गैर प्रांतों में फंसे प्रवासी मजदूरों को लाने में की जा रही देरी के विरोध में सोमवार को उत्तराखंड संवैधानिक अधिकार संरक्षण मंच के संयोजक दौलत कुंवर गांधी पार्क के सामने एकदिवसीय उपवास पर बैठ गए। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने उन्हें उपवास खत्म करने को कहा। नहीं मानने पर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया गया है।

दौलत कुंवर ने कहा कि एक तरफ कोरोना का संकट लगातार बढ़ता जा रहा है। गैर प्रांतों से आने वाले लोग कोरोना पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। ऐसे में संक्रमण का खतरा अभी टला नहीं है। लिहाजा शराब की दुकान खोलना कोरोना संक्रमण को न्योता देने के समान है। उधर, जैसे ही कोतवाली पुलिस को उपवास की जानकारी मिली, वह मौके पर पहुंची और दौलत कुंवर को धरना समाप्त करने को कहा। लेकिन दौलत कुंवर के न मानने पर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उत्तराखंड संवैधानिक अधिकार संरक्षण मंच के प्रभारी सुरेंद्र सिंह रावत को भी गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें: शराब का ठेका खोलने पर लोगों ने जताया विरोध, प्रशासन को बंद करना पड़ा ठेका

यह पढ़ें: उत्तराखंड में महिलाओं ने शराब की दुकान खुलने का अनोखे अंदाज में किया विरोध, खरीददारों पर बरसाए फूल

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस