राज्य ब्यूरो, देहरादून: उत्तराखंड में जल्द ही अब प्लास्टिक पार्क अस्तित्व में आएगा। इसके लिए ऊधमसिंह नगर के सितारंगज में 30 एकड़ जमीन तलाश ली गई है। इस पार्क में प्लास्टिक उत्पाद बनाने वाले उद्योगों को स्थापित किया जाएगा। सिडकुल इस पार्क की अवस्थापना का कार्य करेगा। इसकी लागत तकरीबन 92 करोड़ रुपये आंकी गई है। इसमें से 40 करोड़ केंद्र सरकार वहन करेगी।

उत्तराखंड में प्लास्टिक पार्क बनाने की योजना वर्ष 2016 में बनी थी। इसके लिए तब 50 एकड़ जमीन भी तलाशी गई थी। हालांकि, निवेशक न मिलने के कारण यह मामला ठंडे बस्ते में चला गया था। प्रदेश में वर्ष 2018 में हुए निवेशक सम्मेलन के बाद कई प्लास्टिक उद्योगों ने प्रदेश में अपने उद्योग लगाने की इच्छा जताई थी। इसके बाद से ही इस पर अब तेजी से कार्य शुरू किया जा रहा है। दरअसल, प्लास्टिक पार्को का निर्माण केंद्र की योजना का हिस्सा है। इसके तहत राज्यों में निवेश बढ़ाने के साथ ही स्थानीय लोगों को रोजगार उपलब्ध कराना भी है। इसी कड़ी में जुलाई 2018 में देहरादून में केंद्रीय प्लास्टिक इंजीनियरिग संस्थान भी खोला गया है। इसका मकसद यह कि यहां पढ़ने वाले छात्रों को प्रदेश में ही रोजगार मिल सके और कंपनियों को कुशल मानव संसाधन ढूंढने के लिए बाहर भी न जाना पड़े।

अब इस प्लास्टिक पार्क के निर्माण की कवायद तेजी हो गई है। इस पर अभी शासन स्तर पर काम चल रहा है। दरअसल, पार्क निर्माण के लिए एक स्पेशल पर्पज व्हीकल (एसपीवी) का गठन किया जाना है। इसकी अनुमति कैबिनेट से ली जानी है। इसे देखते हुए अब संबंधित पत्रावली तैयार की जा रही है ताकि इस प्लास्टिक पार्क का निर्माण जल्द से जल्द किया जा सके।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस