देहरादून, जेएनएन। सड़कों पर राहगीरों की बेफिक्री पर लगाम नहीं कसी गई तो हालात आने वाले समय में और भी गंभीर हो सकते हैं। चिंता इस वजह से भी बढ़ रही है कि लॉकडाउन में प्रवासियों की मदद में ताकत झोंककर संकट को टालने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली पुलिस ट्रैफिक को लेकर अभी पूरी तरह से तैयार नहीं हो पाई है।

नियम तोड़ने में 370 गिरफ्तार: राज्य में कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने में सात मुकदमे दर्ज करते हुए 370 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया। प्रदेश में अभी तक 4221 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं और 54 हजार 469 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। अभी तक एमवी एक्ट के तहत कुल एक लाख पांच हजार 858 वाहनों के चालान किया गया है।

प्रकाश चंद्र (एसपी ट्रैफिक) का कहना है कि यातायात नियमों की अनदेखी पर पुलिस की ओर से गंभीरता से कार्रवाई की जा रही है। जहां नियमों के उल्लंघन के मामले सामने आ रहे हैं, वहां कार्रवाई भी की जा रही है। जल्द ही यातायात नियमों के प्रति जागरुकता अभियान भी चलाया जाएगा।

अब प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर कार्रवाई की तैयारी

शहर में प्रदूषण नियंत्रण को लेकर परिवहन विभाग की टीमें वाहनों की जांच को उतर गई हैं। हालांकि, कोरोना के चलते उन वाहनों को प्रदूषण जांच प्रमाण-पत्र से अभी छूट मिली हुई है, जिनका प्रमाण-पत्र एक फरवरी के बाद समाप्त हुआ है। जिन वाहनों में प्रमाण पत्र ही नहीं मिले या जिनके एक फरवरी से पहले खत्म हो चुके थे, ऐसे दस वाहनों का चालान किया गया।

विक्रम में शारीरिक दूरी का पालन न करने पर दो विक्रम के चालान भी किए गए। कोरोना अनलॉक के बाद जिस तेजी से शहर में वाहनों की रेलमपेल बढ़ी है, उसी तेजी से प्रदूषण भी बढ़ता जा रहा। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इस पर नाराजगी जताते हुए परिवहन विभाग को कार्रवाई के लिए कहा था। 

इस पर एआरटीओ (प्रवर्तन) अरविंद कुमार पांडेय के निर्देशन में परिवहन विभाग की चार टीमों ने बुधवार को अलग-अलग मार्गो पर वाहनों के प्रदूषण प्रमाण पत्रों की जांच की। इस दौरान बिना हेलमेट, बिना सीट बेल्ट, मोबाइल पर बात करते हुए वाहन चलाने, रैश ड्राइविंग करने वालों और ओवर लोडिंग करने वाले वाहनों के विरुद्ध कार्रवाई भी की गई।

यह भी पढ़ें: Coronavirus: मास्क नहीं पहनने पर 58 लोगों से वसूला जुर्माना Dehradun News

विक्रम की भी चेकिंग की गई। इस दौरान कुल चालीस वाहनों के चालान किए गए। एआरटीओ पांडेय ने बताया कि वाहन में प्रदूषण प्रमाण पत्र न मिलने पर सरकार की ओर से ढाई हजार रुपये जुर्माना लगाने का प्रावधान किया हुआ है। चेकिंग टीमों में परिवहन कर अधिकारी एमडी पपनोई के अलावा प्रज्ञा पंत और अनुराधा पंत शामिल रहे।

यह भी पढ़ें: Coronavirus: मास्क न पहनने पर अब प्रशासन का शिकंजा, 171 के चालान Dehradun News

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस