जागरण संवाददाता, देहरादून। भारतीय सैन्य अकादमी में पासिंग आउट परेड (पीओपी) कल होगी। सेना की पश्चिमी कमान के जनरल आफिसर कमांडिंग-इन-चीफ ले. जनरल आरपी सिंह बतौर रिव्यूइंग आफिसर परेड की सलामी लेंगे। वह अकादमी पहुंच गए हैं। कोरोना (कोविड-19) संक्रमण के चलते पिछले वर्ष जून की तरह इस बार भी कैडेटों के स्वजन पीओपी में शामिल नहीं होंगे। इस बार परेड सादगी से होगी।

आइएमए के एतिहासिक चेटवुड भवन के सामने ड्रिल स्क्वायर पर परेड सुबह साढ़े छह बजे से होगी। परेड के उपरांत आयोजित होने वाली पीपिंग और ओथ सेरेमनी के बाद पासिंग आउट बैच के 425 जेंटलमैन कैडेट बतौर लेफ्टिनेंट देश-विदेश की सेना का अभिन्न अंग बन जाएंगे। इनमें 341 युवा सैन्य अधिकारी भारतीय थलसेना को मिलेंगे। जबकि 84 युवा सैन्य अधिकारी नौ मित्र देशों अफगानिस्तान, तजाकिस्तान, भूटान, मारीशस, श्रीलंका, वियतनाम, टोंगा, मालद्वीव व किर्गिस्तान की सेना का अभिन्न अंग बनेंगे।

इसके बाद देहरादून स्थित प्रतिष्ठित भारतीय सैन्य अकादमी के नाम देश-विदेश की सेना को 63381 सैन्य अधिकारी देने का गौरव जुड़ जाएगा। इनमें मित्र देशों को मिले 2656 सैन्य अधिकारी भी शामिल हैं। पीओपी के मद्देनजर अकादमी के आसपास सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद की गई है। चप्पे-चप्पे पर सेना के सश जवान तैनात हैं।

यह भी पढ़ें- जांबाजी में नहीं वीरभूमि उत्तराखंड का कोई सानी, जानिए किस राज्य से कितने कैडेट

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप