राज्य ब्यूरो, देहरादून: CharDham Yatra प्रदेश में चारधाम यात्रा के लिए हो रहा पंजीकरण कई यात्रियों के लिए परेशानी का सबब बन रहा है। कारण यह कि चारधाम देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण केवल चारधाम के लिए हो रहे हैं। इसमें भी संख्या सीमित रखी गई है। चारधाम के लिए पंजीकरण न होने के कारण यदि कोई यात्री व्यवसायिक वाहन के जरिये चारधाम न जाकर, अन्यत्र यात्रा करना चाहता है तो उसका ट्रिप कार्ड नहीं बन रहा है। इससे उन्हें मायूस होकर वापस लौटना पड़ रहा है।

प्रदेश सरकार ने चारधाम यात्रा शुरू कर दी है। इसके लिए बाकायदा एसओपी जारी की गई है। इस एसओपी के अनुसार राज्य के बाहर से आने वाले यात्रियों को चारधाम यात्रा के लिए देवस्थानम बोर्ड की वेबासाइट पर पंजीकरण कराना आवश्यक है। बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण केवल चारधाम यात्रा के लिए ही हो रहा है। देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट परिवहन विभाग की वेबसाइट से लिंक की गई है। परिवहन विभाग व्यावसायिक वाहनों के लिए जो ट्रिप कार्ड जारी कर रहा है, वह इसी वेबसाइट पर पंजीकृत यात्रियों के आधार पर कर रहा है। इस ट्रिप कार्ड में यात्रियों का संपूर्ण विवरण दर्ज किया जा रहा है।

परिवहन विभाग ने यात्रा पर जाने वाले व्यावसायिक वाहनों के लिए व्यवस्था यह बनाई है कि बिना ग्रीन कार्ड व ट्रिप कार्ड के किसी भी वाहन का यात्रा मार्ग पर संचालन नहीं किया जा सकता। उन्हें यात्रा मार्ग पर बनी चेकपोस्ट पर ही रोक लिया जाएगा। ऐसा हो भी रहा है। इसलिए व्यावसायिक वाहन परिवहन विभाग से ट्रिप कार्ड लिए बिना यात्रा मार्ग पर नहीं जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें- Smart City Project: डीएम राजेश कुमार ने दिए निर्देश, स्मार्ट सिटी के कार्यों से हो रही परेशानी करें दूर

इससे परेशानी उन यात्रियों के सामने अधिक आ रही है, जो देवस्थानम बोर्ड पर पंजीकरण कराए बिना उत्तराखंड पहुंच रहे हैं। वे चारधाम इसलिए नहीं जा सकते क्योंकि उन्होंने इसके लिए पंजीकरण नहीं कराया है अथवा उन्हें बाद का समय मिल रहा है। ऐसे में वे प्रदेश के ही अन्य धार्मिक स्थल, जैसे हेमकुंड साहिब अथवा तुंगनाथ धाम की यात्रा करना चाहते हैं, मगर उन्हें इसके लिए व्यावसायिक वाहन नहीं मिल पा रहे हैं। यह मसला यात्रियों व व्यावसायिक वाहन संचालन करने वाली कंपनियों द्वारा परिवहन विभाग के समक्ष रखा गया है, जिसका समाधान तलाशा जा रहा है।

उप परिवहन आयुक्त एसके सिंह का कहना है कि इसके लिए उच्चाधिकारियों से वार्ता की जा रही है। इसका एक समाधान यह हो सकता है कि ऐसे यात्रियों का परिवहन विभाग की वेबसाइट पर पंजीकरण करा लिया जाए। जल्द ही इस पर निर्णय ले लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें- पौड़ी गढ़वाल: गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट में ट्रेनिंग के दौरान गुमशुदा रिक्रूट बरामद, रह रहा था बहन के घर

Edited By: Sumit Kumar