देहरादून, जेएनएन। कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान के लिए हरिद्वार जाने वाले यात्रियों की भीड़ से रोडवेज बसों में पांव रखने की जगह नहीं बची। हालात यह हुए कि आइएसबीटी से ही बसें पैक होकर चली और रास्ते में बसों का इंतजार कर रहे लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ा। रिस्पना पुल समेत जोगीवाला, हर्रावाला, डोईवाला आदि पर यात्रियों की भीड़ लगी रही मगर बसें नहीं मिलीं।

यूं तो परिवहन निगम की हर दस-पंद्रह मिनट में हरिद्वार के लिए सेवा है, लेकिन मंगलवार को हरिद्वार के लिए बसों में जगह ही नहीं मिली। उत्तराखंड रोडवेज की बसों समेत, हिमाचल व जेएनएनयूआरएम की बसों में यात्रियों की भीड़ से मारामारी मची रही। 

सुबह छह बजे से ही आइएसबीटी से जो भी बस निकली, पैक रही। जिस कारण कुछ बसें रिस्पना पुल-जोगीवाला से जाने के बजाए मोथरोवाला-दूधली से डोईवाला निकल गईं। रास्ते में सैकड़ों यात्री हरिद्वार की बसों का इंतजार करते रहे। यात्री अजय कुमार और पूजा चौहान ने बताया कि वह सुबह आठ बजे से रिस्पना पुल पर इंतजार कर रहे, मगर हरिद्वार के लिए बस नहीं आ रही। 

वाया चीला गई लंबी दूरी की बसें

दून से वाया हरिद्वार होकर मुरादाबाद, बिजनौर, नैनीताल, हल्द्वानी, पिथौरागढ़ व टनकपुर समेत लखनऊ, कानपुर आदि के लिए जाने वाली बसें मंगलवार को हरिद्वार के बजाए वाया चीला निकलीं। पुलिस ने हरिद्वार में भीड़ के मद्देनजर बसों का रूट ऋषिकेश-चीला-चंडीघाट किया हुआ था। ऐसे में हरिद्वार जाने वाले यात्रियों को इन बसों का सहारा नहीं मिल सका।

यह भी पढ़ें: दिल्ली के लिए बस न मिलने पर यात्रियों ने जमकर काटा हंगामा, पढ़िए पूरी खबर

उत्तरकाशी महीडांडा के लिए नई बस

उत्तराखंड परिवहन निगम ने देहरादून से उत्तरकाशी महीडांडा के लिए नई बस सेवा शुरू की है। यह बस रोजाना सुबह साढ़े छह बजे पर्वतीय डिपो से सहारनपुर जाएगी और साढ़े आठ बजे सहारनपुर से पर्वतीय डिपो पर साढ़े 11 बजे पहुंचेगी। फिर यहां से सवारी लेकर मसूरी होते हुए उत्तरकाशी महीडांडा के लिए प्रस्थान करेगी। अगली सुबह साढ़े छह बजे यह बस देहरादून के लिए चलेगी और सहारनपुर तक जाएगी। यहां दो बसें लगाई गई हैं, ताकि यात्रियों को नियमित सेवा मिल सके।

यह भी पढ़ें: देहरादून रेलवे स्टेशन में यार्ड रिमॉडलिंग शुरू, 90 दिन के लिए थमे ट्रेनों के पहिये

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप