देहरादून, [जेएनएन]: हर बच्चे का अपना अलग शौक होता है। कोई खेलना पसंद करता है, तो कोई टीवी पर कार्टून देखना। पर ज्यादातर बच्चे लिखने-पढ़ने से जी भी चुराते हैं, लेकिन, ओजस्य सोहम उल्फत को न सिर्फ पढ़ने का शौक है, बल्कि उन्होंने महज ग्यारह साल की उम्र में दो कहानियां लिख दी हैं। उनकी नई किताब 'द गैलोपिंग सिजर्स' का रविवार को नन्हीं दुनिया में विमोचन किया गया। 

फिल्म एवं टीवी कलाकार श्रुति उल्फत और रंगकर्मी आलोक उल्फत के पुत्र ओजस्या की लेखनी की शुरुआत भी बड़े ही रोचक ढंग से हुई। उन्होंने मजाक-मजाक में ही पिता से पुस्तक लिखने की बात कही थी। पिता ने कहा-ऐसा है तो इसे लिपिबद्ध कर दो। फिर क्या था उन्होंने अपनी पहली कहानी फ्लाइट ऑफ द ड्रैगन लिख कर छोटी-सी उम्र में बता दिया कि शिद्दत से की गई कामना सीखने की ललक रखने वाले किसी भी व्यक्ति को सामर्थ्यवान कैसे बना देती है। अब उनकी दूसरी किताब भी तैयार है।

'द गैलोपिंग सिजर्स' एक रहस्यमय कैंची की कहानी है, जो इंसानों की तरह बात कर सकती है, चल सकती है और तो और घोड़े की तरह दौड़ भी सकती है। यह पहली किताब फ्लाइट आफ द ड्रैगन से भी जुड़ी है। कहानी के अंत में यह कैंची एक राजकुमार में परिवर्तित हो जाती है। कार्यक्रम में लेखक दीपक मेनन, नन्हीं दुनिया की मुख्य प्रवर्तक किरण उल्फत, जागृति संस्था से अवि नंदा, मानव भारती स्कूल से मंजरी, सुजाता पॉल सहित कई लोग उपस्थित रहे। संचालन आलोक उल्फत ने किया। 

यह भी पढ़ें: बंद आंखों से साइकिल चलाने और पढ़ने में उस्ताद हैं ये बच्चे

यह भी पढ़ें: गंगोत्री नेशनल पार्क खुलने के साथ ही शुरू हुआ नेलांग घाटी का रोमांच 

By Raksha Panthari