मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, जेएनएन। ऋषिकेश व हरिद्वार के नौ बड़े ट्रैवल ऑपरेटरों पर गुरुवार को की गई राज्य माल और सेवा कर विभाग (स्टेट जीएसटी) की छापेमारी के बाद अधिकारियों ने 50 और ऑपरेटरों की कुंडली तैयार कर ली है। हालांकि, विभाग अभी पहली कार्रवाई के बाद  ऑपरेटरों के रुख का इंतजार कर रहा है। यदि इसके बाद भी पंजीकरण व कर जमा करने की स्थिति में सुधार नहीं आता है तो इन पर कभी भी छापा मारा जा सकता है।

गुरुवार को की गई कार्रवाई के बाद टूर एंड ट्रैवल ऑपरेटरों में खलबली की स्थिति है। यही कारण रहा कि शुक्रवार को ट्रैवल ऑपरेटरों के संगठन के कुछ प्रतिनिधियों ने जीएसटी अधिकारियों से मुलाकात कर सहयोग का भरोसा दिलाया। जिस पर अधिकारियों ने कहा कि करोड़ों रुपये का कारोबार करने के बाद भी बड़ी संख्या में ट्रैवल ऑपरेटरों ने जीएसटी में पंजीकरण नहीं कराया है। जिनका पंजीकरण है, वह महज पांच फीसद जीएसटी भरने में भी कतरा रहे हैं और यात्रियों से वसूल की गई अधिकांश राशि जेब में डाल रहे हैं। स्टेट जीएसटी अधिकारियों ने ट्रैवल ऑपरेटर संगठन के प्रतिनिधियों को 20 सितंबर को बुलाया है। ताकि उनके माध्यम से यह संदेश दिया जा सके कि वह समय रहते पंजीकरण करा लें और कारोबार के अनुरूप टैक्स जरूर भरें। अन्यथा विभाग कर वसूली के लिए छापे भी मारेगा और अन्य तरह की विधिक कार्रवाई भी अमल में लाएगा।

यह भी पढ़ें: टूर-ट्रैवल ऑपरेटर्स पर जीएसटी की ताबड़तोड़ छापेमारी, पढ़िए पूरी खबर

दिल्ली के ऑपरेटरों की जानकारी भेजी

ऋषिकेश-हरिद्वार के ट्रैवल ऑपरेटरों का ब्योरा यात्रा शीट से जुटाने के दौरान अधिकारियों को दिल्ली के ट्रैवल ऑपरेटरों की जानकारी भी मिली। इस बात की प्रबल आशंका है कि वहां के ऑपरेटर भी वास्तिवक यात्री संख्या को छिपाकर जीएसटी का रिटर्न दाखिल कर रहे होंगे। लिहाजा, ऐसे ऑपरेटर की जांच के लिए इनका ब्योरा दिल्ली के संबंधित कार्यालय को भेज दिया गया है।

यह भी पढ़ें: ट्रक ड्राइवरों से अवैध वसूली का वीडियो वायरल, दो सिपाही निलंबित

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप