जागरण संवाददाता, देहरादून: स्व. नित्यानंद स्वामी पारदर्शी व्यक्तित्व वाले इंसान थे। वह राजनीति के सच्चे पुरोधा थे। ऐसे इंसानों की प्रेरणा से कुछ अच्छा करने की ताकत मिलती है। यह बात मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने राजभवन सभागार में प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री रहे नित्यानंद स्वामी की जयंती पर आयोजित सम्मान समारोह में कही।

श्री नित्यानंद स्वामी जनसेवा समिति की ओर से आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि नित्यानंद स्वामी ने प्रदेश में अपराध और नशाखोरी पर काफी हद तक लगाम लगाई। वर्ष 2000 से पहले उत्तराखंड में अपराध का ग्राफ काफी चढ़ा हुआ था। पूर्व मुख्यमंत्री ने इसपर सख्त कदम उठाए। इससे पहले कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, स्वामी सुंदरानंद, उत्तर प्रदेश के पूर्व कार्यवाहक मुख्यमंत्री डॉ. अम्मार रिजवी और विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने किया। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि नित्यानंद स्वामी का पूरा जीवन संघर्ष में बीता। उनका एक पैर रेल और दूसरा जेल में रहता था। सुख-सुविधाओं को छोड़ पूर्व मुख्यमंत्री ने छोटे से घर में रहना पसंद किया। इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री नित्यानंद स्वामी की बेटी ज्योत्सना, टिहरी सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह, विधायक मुन्ना सिंह चौहान, गणेश जोशी, चंद्रा पंत आदि मौजूद रहे। वेबसाइट जय की लांचिंग

कार्यक्रम के दौरान श्री नित्यानंद स्वामी जनसेवा समिति ने नित्यानंद स्वामी के जीवन से जुड़ी यादों को लेकर तैयार की गई वेबसाइट जय लांच की। वेबसाइट की लांचिंग करते हुए मुख्यमंत्री ने इसे तैयार करने वाली उत्तरांचल यूनिवर्सिटी की छात्रा शिवानी को सम्मानित भी किया। इन्हें किया गया सम्मानित

उत्तराखंड गौरव सम्मान: यह सम्मान स्वामी सुंदरानंद को दिया गया है। वह पिछले 73 साल में सिकुड़ते गंगोत्री ग्लेशियर के डेढ़ लाख फोटो ले चुके हैं, जिन्हें गंगोत्री में स्थित गैलरी में रखी हैं। स्वामी थूर द लैंस ऑफ ए साधु नाम की पुस्तक भी लिख चुके हैं। खेल: कई पदक जीत चुके दिव्यांग निशानेबाज प्रेम माधव बाली। संगीत: लोकगायक प्रीतम भरतवाण। चिकित्सा: स्वामी राम हिमालयन यूनिवर्सिटी में तैनात कैंसर विशेषज्ञ डॉ. सुनील सैनी। शिक्षाविद् : वेल्हम ग‌र्ल्स की प्रिंसिपल पद्मिनी एस. शिवम को बेहतर शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए। राजनीति: भाजपा सांसद अजय भट्ट को। सांसद की अनुपस्थिति में यह सम्मान उनकी पत्नी पुष्पा भट्ट ने ग्रहण किया।

------------------

सेवा के लिए राजनीति में आएं

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भ्रष्टाचार करने वाले नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि राजनीति में सेवा के लिए आना चाहिए। यदि स्रोत ठीक रहेगा तो धारा भी सही बहेगी। इसी तरह राजनीति में आने के लिए अच्छी शुरुआत और अच्छे विचारों की बहुत जरूरत है। शनिवार को कांग्रेस की ओर से नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में निकाली जा रही रैली पर मुख्यमंत्री ने कहा, कांग्रेस नेता खुद कह रहे हैं कि इस कानून की जन्मदाता कांग्रेस है। अब कानून लागू हो गया है तो देश में गलत संदेश फैलाया जा रहा है। भविष्य में पार्टी को इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस