देहरादून, जेएनएन। पटेलनगर स्थित श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में एक नवजात की मौत हो गई। जिस पर परिजनों ने चिकित्सक और स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगा हंगामा किया। उनका कहना है कि अस्पताल प्रशासन ने उन्हें भ्रम में रखा और सही जानकारी तक नहीं दी, जबकि अस्पताल प्रशासन ने ऐसी किसी भी बात से इनकार किया है। 

सहारनपुर रोड पर रेस्टोरेंट चलाने वाले केसर सिंह ने पत्नी निर्मला को तीसरी डिलीवरी के लिए 28 सितम्बर को अस्पताल में भर्ती कराया था। 29 की सुबह उनकी पत्नी ने बच्ची को जन्म दिया। बताया कि बच्ची को एनआइसीयू में भर्ती कर दिया गया। 30 सितंबर को सुबह 11:30 बजे तक स्थिति ठीक बताई गई। जबकि 12:30 बजे उन्हें बच्ची की मौत की जानकारी दी गई। 

आरोप है कि बच्ची की मौत का कारण पूछा तो उन्हें डॉक्टर से नहीं मिलवाया गया और अगले दिन आने को कहा गया। आरोप ये भी है कि बच्ची को एक इंजेक्शन लगना था, लेकिन कुछ रुपये कम होने होने की वजह से नहीं लगाया गया। मंगलवार को अस्पताल और बाजार चौकी में परिजनों ने चिकित्सक पर कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा किया। इंस्पेक्टर पटेलनगर सूर्यभूषण नेगी का कहना है कि तहरीर मिली है, बच्ची के शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की जांच के बाद केस दर्ज किया जाएगा। 

इधर, अस्पताल के वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी भूपेंद्र रतूड़ी के अनुसार यह प्री मैच्युअर डिलीवरी का केस था। जिस कारण जन्म के समय ही बच्ची को बहुत सी गंभीर समस्याएं थीं। जन्म के तुरंत बाद ही उसे वेंटीलेटर पर लिया गया। बच्ची की अति गंभीर अवस्था के बारे में माता पिता व परिजनों को पूरी जानकारी दी गई थी। उपचार में लापरवाही जैसी कोई बात नहीं है। यदि परिजनों को कोई शंका या सवाल है तो वे मेडिकल बोर्ड से संबंधित मामले की जांच करा सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: दून महिला अस्पताल में दो नवजात की मौत पर हंगामा Dehradun News

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप