देहरादून, राज्य ब्यूरो। प्रदेश में एनसीसी एकेडमी खोलने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। पूर्व कैबिनेट मंत्री और पूर्व विधायक देवप्रयाग, मंत्री प्रसाद नैथानी ने इस संबंध में सभी विधायकों को देवप्रयाग में एनसीसी एकेडमी खोले जाने संबंधी सरकारी पत्राचार के कागजात सौंपे। नैथानी का कहना है कि देवप्रयाग में एनसीसी एकेडमी खुलने से स्थानीय लोगों को खासा फायदा होगा। पूर्व में इस संबंध में केंद्र से हुए पत्राचार और शिलान्यास के बावजूद पौड़ी में एनसीसी एकेडमी का निर्णय अलोकतांत्रिक और देवप्रयाग की जनता से विश्वासघात है। 

प्रदेश सरकार ने इसी वर्ष जून में पौड़ी में हुई कैबिनेट बैठक में पौड़ी में एनसीसी एकेडमी खोलने को मंजूरी प्रदान की थी। इसके बाद से ही कांग्रेस ने इसे लेकर विरोध शुरू कर दिया। पूर्व कैबिनेट मंत्री, मंत्री प्रसाद नैथानी का कहना है कि माल्डा-श्रीकोट-देवप्रयाग में एनसीसी एकेडमी खोलने के संबंध में केंद्र से वर्ष 2015 में पत्राचार किया गया था।
इस पर जुलाई 2015 में तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ने इस मामले में उचित निर्णय लेने का आश्वासन दिया था। छह दिसंबर 2016 को तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत ने इसका शिलान्यास भी कर दिया था। यहां के ग्रामीण इसके लिए जमीन भी देने को तैयार थे। 
यहां तक कि इसके लिए 29.32 करोड़ का बजट प्रस्तावित किया गया था। इसी वर्ष जून में हुई कैबिनेट में प्रदेश सरकार ने इस एकेडमी को देवप्रयाग के स्थान पर पौड़ी के देवार में खोलने का निर्णय लिया। इससे स्थानीय जनता में रोष है। वहीं, सरकार कह रही है कि श्रीकोट-माल्डा-देवप्रयाग में एकेडमी खोलने का कोई शासनादेश प्राप्त नहीं हुआ है। नैथानी ने कहा कि इस मसले पर वह चुप नहीं बैठेंगे। यहां एनसीसी एकेडमी के स्थान पर दूसरी योजना देने का आश्वासन देकर जनता को बरगलाने का प्रयास किया जा रहा है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस