देहरादून, राज्य ब्यूरो। नगर निकायों में पार्षद और सभासद के तौर पर कार्य करने की मंशा पाले भाजपाइयों की साध अब 15 अगस्त से पहले पूरी हो जाएगी। इस सिलसिले में सभी जिलों से सूची शहरी विकास मंत्रालय को मिल चुकी है और अब नामों के चयन पर मंथन चल रहा है। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के अनुसार स्वतंत्रता दिवस से पहले निकायों में प्रतिनिधि नामित कर दिए जाएंगे। 

प्रदेश में वर्तमान में आठ नगर निगम, 41 नगर पालिका परिषद और 41 नगर पंचायतें वजूद में हैं। सेलाकुई व भतरौंजखान नगर पंचायतों का मामला अदालत में है, जबकि नवगठित चौखुटिया नगर पंचायत में बोर्ड गठित नहीं हुआ है। यानी इस वक्त 90 नगर निकाय अस्तित्व में हैं, जिनके सदस्यों की संख्या लगभग 1136 है। निकाय एक्ट के अनुसार निकायों के बोर्ड में कुल सदस्य संख्या के 20 फीसद सदस्य सरकार नामित कर सकती है। 
यह संख्या 227 के करीब बैठ रही है। इन सभी 90 नगर निकायों का गठन होने के बाद इनमें नामित होने वाले सदस्य पदों पर भाजपाइयों की नजर थी। हालांकि, इस वर्ष की शुरुआत में निकायों में प्रतिनिधि नामित करने को कवायद हुई, लेकिन कोरोना संकट के चलते ऐसा नहीं हो पाया। लंबे इंतजार के बाद हाल में दोबारा कसरत की गई और सभी जिलों से निकायों में नामित किए जाने वाले प्रतिनिधियों के नाम मांगे गए। 
सभी जिलों से करीब 300 भाजपाइयों के नामों की सूची शहरी विकास मंत्रालय को मिल गई है। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के अनुसार सूची का सभी पहलुओं से परीक्षण कराया जा रहा है, इसीलिए इसमें वक्त लग रहा है। सरकार का प्रयास है कि स्वतंत्रता दिवस से पहले सभी निकायों में प्रतिनिधि नामित कर दिए जाएं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस