जागरण संवाददाता, देहरादून। भवन कर वसूली में बड़ी कार्रवाई करते हुए नगर आयुक्त विनय शंकर पांडेय ने आइएसबीटी और सिटी जंक्शन मॉल प्रबंधन पर एक करोड़ 16 लाख रुपये भवन कर लगाया है। साल 2016 से अब मार्च-2021 तक लगाए गए इस भवन कर में प्रबंधन ने 58 लाख रुपये जमा करा दिए हैं, जबकि बाकी रकम मार्च तक जमा कराने की बात कही है। निगम ने धनराशि जमा नहीं कराने पर विधिक कदम उठाने की चेतावनी दी है। 

निगम प्रशासन की ओर से शहर के सभी 100 वार्डों में व्यवसायिक भवनों से भवन कर वसूला जा रहा है। इसी क्रम में पिछले दिनों 150 सरकारी व गैर-सरकारी संस्थानों व प्रतिष्ठानों को व्यवसायिक भवन कर का नोटिस भेजा गया। अभी भवन कर पर बीस फीसद की छूट दी जा रही। पहले यह छूट 31 जनवरी तक थी, मगर बाद में महापौर सुनील उनियाल गामा ने इसे बढ़ाते हुए 15 फरवरी कर दिया। अब सीमा समाप्त होने वाली है, लिहाजा नगर निगम कर सुनवाई से संबंधित मामले भी तेजी से निबटा रहा। नगर आयुक्त विनय शंकर पांडेय ने बताया कि अगले डेढ़ माह में 30 करोड़ रुपये से ऊपर भवन कर वसूलने का लक्ष्य निर्धारित है। कोरोना की वजह से इस साल वसूली काफी कम रही है, जिसे बढ़ाया जा रहा है। ऐसे में जिन भवनों से अब तक वसूली नहीं हुई है, उन्हें नोटिस भेजे जा रहे हैं।

नगर आयुक्त ने बताया कि आइएसबीटी और इसके बगल में सिटी जंक्शन मॉल को पिछले साल 88 लाख रुपये के भवन कर का नोटिस भेजा गया था, लेकिन प्रबंधन ने कर जमा नहीं कराया। प्रबंधन भवन कर के लिए एमडीडीए पर जिम्मेदारी डालकर खुद का पिंड छुड़ा रहा था, लेकिन नगर आयुक्त ने सुनवाई के बाद प्रबंधन से ही वसूली का आदेश सुनाया। नगर आयुक्त ने बताया कि रैमकी प्रबंधन ने 58 लाख रुपये भवन कर जमा करा दिया है और आधी रकम अगले एक माह में जमा कराने की बात कही है। 

भवन कर में छूट के अब दो दिन

नगर निगम की ओर से भवन कर में दी जा रही बीस फीसद छूट के अब सिर्फ दो दिन शेष बचे हैं। निगम ने 15 फरवरी तक छूट दी हुई है, लेकिन 13 फरवरी शनिवार और 14 फरवरी रविवार को अवकाश पड़ रहे। ऐसे में आज शुक्रवार और 15 फरवरी सोमवार को दो दिन ही छूट के साथ भवन कर जमा हो पाएगा। हालांकि, नगर आयुक्त शनिवार को भवन कर अनुभाग खोलने की तैयारी में हैं, ताकि आमजन को सहूलियत मिल सके। छूट की सीमा आगे बढ़ाने को लेकर अभी संशय है। 

दरअसल, यह सीमा महापौर ही बढ़ा सकते हैं और महापौर इन दिनों निजी दौरे पर शहर के बाहर हैं। वह रविवार को लौटेंगे। ऐसे में सीमा बढ़ेगी या नहीं, यह उनके लौटने के बाद ही तय होने का अनुमान है। वहीं, सीमा समाप्त होने के अंतिम दिनों में नगर निगम में कर अनुभाग में भारी भीड़ उमड़ रही। गुरुवार को काफी संख्या में लोग भवन कर जमा कराने आए। निगम की ओर से वार्डों में कर वसूली कैंप भी लगाए जा रहे। 

यह भी पढ़ें- राहत: अब ऑनलाइन जमा कर सकेंगे हाउस टैक्स, शहरी विकास निदेशालय ने गृह कर को शुरू किया पोर्टल

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021