देहरादून, जेएनएन। चीन-नेपाल सीमा से लगे पिथौरागढ़ के साथ ही आसपास के क्षेत्र में मंगलवार सुबह भूकंप का झटका महसूस किया गया। सुबह करीब साढ़े सात बजे आए झटके से लोग दहशत में आ गए। कुछ घरों में दरारें भी आई हैं। भूकंप का केंद्र पिथौरागढ़ जिले की तहसील मुनस्यारी में ही दस किलोमीटर की गहराई में था और इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.5 मैग्नीट्यूट थी।

मंगलवार सुबह करीब 7.30 बजे पिथौरागढ़ जिले में धरती डोल उठी। यह झटका करीब चार सेकेंड तक महसूस किया गया। घबराए लोग घरों से बाहर निकल गए। जिला प्रशासन के अनुसार मुनस्यारी क्षेत्र में कुछ मकानों की दीवारों पर हल्की दरारें आई हैं। 

वहीं, प्रशासन ने सभी राजस्व टीमों को भूकंप से हुए नुकसान की जानकारी जुटाने के लिए रवाना किया है। ठीक एक साल पहले भी जिले में 11 नवंबर 2018 को 3.5 भी तीव्रता का भूकंप आया था। जिसने लोगों में दहशत भर दी थी। 

यह भी पढ़ें: हिमालयी क्षेत्र में तिब्बत से उत्तराखंड तक महाभूकंप का खतरा, जानिए वजह

भूकंप से कहीं से भी किसी प्रकार के नुकसान की कोई सूचना नहीं है। वहीं, पौड़ी जिले के कालागढ़ में भी हल्‍के भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। कालागढ़ डैम प्रशासन के अनुसार कालागढ़ डैम पूरी तरह सुरक्षित है। ये पहली बार नहीं है कि भूकंप से पिथौरागढ़ की धरती डोली है। इससे पहले भी यहां कई बार भूकंप आ चुका है।  

यह भी पढ़ें: कांप उठी देवभूमि उत्तराखंड की धरती, पिथौरागढ़ में भूकंप के बाद अफरातफरी; घरों से बाहर निकले लोग

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप