देहरादून, जेएनएन। भाजपा के पूर्व महामंत्री (संगठन) संजय कुमार पर आरोप लगाने वाली युवती ने अपनी जान को खतरा बताया है। कहा कि छह माह के भीतर पांच बार हमले हो चुके हैं। एक सप्ताह पहले एमकेपी कॉलेज वाली गली में अज्ञात ने पीछे से हमला किया, जिसमें वह बाल-बाल बची। इसके बाद से वह दहशत में है। पीड़िता ने कहा कि मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर सुरक्षा की गुहार लगाई है। अंदेशा जताया कि कुछ लोग उसकी हत्या करके दम लेंगे।

मीटू प्रकरण में पुलिस की विवेचना पर सवाल उठाने के बाद अब पीड़िता ने खुद की जान को खतरा बताया है। कहा कि कुछ लोग उसका पीछा कर लगातार हमला कर रहे हैं। फरवरी माह तक पुलिस ने सुरक्षा दी थी। मगर, अब सुरक्षा हटने के बाद से खतरा बना हुआ है। आरोप लगाया कि कुछ लोग उनके फोन पर चौकी इंचार्ज और दारोगा बनकर लोकेशन पूछते हैं। क्रास करने पर हकीकत कुछ और ही निकलती है। कहा कि हमले को लेकर पुलिस को लिखित में सूचना दी गई है। मगर, उनके शिकायती पत्रों को पुलिस भी गंभीरता से नहीं ले रही है।

उन्होंने कहा कि न्याय पाने के लिए वह अंतिम दम तक लड़ाई लडेंगी। नहीं मिलते पुलिस अफसर पीड़िता ने कहा कि पुलिस अधिकारी सरकार के दबाव में काम कर रहे हैं। जनपद से लेकर पुलिस मुख्यालय तक सुरक्षा और न्याय की मांग वह कर चुकी हैं। मगर, अधिकारी मिलने से इन्कार कर देते हैं। कहा कि पीड़िता का पक्ष न सुनने से साफ है कि प्रकरण को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। एसएसपी को फिर भेजा पत्र पीड़िता ने कहा कि सोमवार को किसी लखेड़ा नाम के पुलिस कर्मी ने फोन कर कहा कि उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी है। इसके लिए कोर्ट में बुलाया गया। जब पीड़िता ने एसएसपी दफ्तर में मिलने की बात कही तो फोन करने वाले ने बात बदल दी। इस मामले में उन्होंने एसएसपी को पत्र लिखकर पुलिस के नाम पर फोन करने वालों के खिलाफ जांच की मांग की है।

यह भी पढ़ें: पीड़ि‍ता के लिए तकलीफदेह बन गया सिस्टम, कठघरे में है दून महिला अस्‍पताल

यह भी पढ़ें: सीओ नरेंद्रनगर पर गिरी गाज, शासन ने बैठाई जांच; जानिए क्या है पूरा मामला

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप